Wednesday, November 2, 2011

प्यास तो सिर्फ प्यास होती है

जिंदगी   जब    उदास  होती  है |
तू    मेरे   आस-पास    होती  है |
बुझ गई गर  तो प्यास ही कैसी , 
प्यास तो   सिर्फ प्यास  होती है |

तू जहाँ पर थी वहीँ , पदचिन्ह  तेरे  ढूंढता हूँ |
तू गयी पर मैं तेरी,यादों से तुझको पूंछता हूँ |

एक  ज़माना  पहले  जैसी, अब  भी  लगती हो |
आँखों  ही  आँखों  में   बातें,  करती   लगती हो |
चाल वही-मुस्कान वही- नज़रों  का  बाँकापन ,
उम्र न कुछ कर सकी,उम्र को ठगती लगती हो | 


54 comments:

  1. बहुत खूब, बधाई.

    ReplyDelete
  2. पहले जैसी, अब भी लगती हो ....?

    उम्र प्यार पर कब हावी हो पाई है सुरेन्द्र जी .....:))

    वही चाल वही-मुस्कान वही बाँकापन मुबारक आपको ...

    :))

    ReplyDelete
  3. तू जहां पर थी वहीं , पदचिन्ह तेरे ढूंढता हूं

    बहुत ख़ूब ! … जैसे मेरी ही बात कही हो…
    सुरेन्द्र जी

    ReplyDelete
  4. जिंदगी जब उदास होती है |
    तू मेरे आस-पास होती है |
    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |

    वाह... बहुत खूब कहा है आपने... शुभकामनाये

    ReplyDelete
  5. प्यास तो सिर्फ प्यास होती है
    जिंदगी जब उदास होती है |
    तू मेरे आस-पास होती है |
    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |
    तू जहाँ पर थी वहीँ , पदचिन्ह तेरे ढूंढता हूँ |
    तू गयी पर मैं तेरी,यादों से तुझको पूंछता हूँ |बेहद उदास करती सी रचना ऐसा ही होता है ज़िन्दगी में गर सन्दर्भ न बदलें तो ,सन्दर्भ बदले तो सब कुछ बदल जाता है .

    ReplyDelete
  6. वाह ....बहुत खूब कहा है आपने ।

    ReplyDelete
  7. क्या बात हैं बहुत सुंदर .....

    ReplyDelete
  8. वाह! सुरेन्द्र जी वाह!
    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार....!

    ReplyDelete
  9. तीनों मुक्तक सुंदर हैं सुरेन्द्र भाई
    बधाई

    ReplyDelete
  10. उम्र न कुछ कर सकी,उम्र को ठगती लगती हो....बहुत ही सुन्दर !

    ReplyDelete
  11. sundar rachna badhaai
    .समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  12. सुंदर मुक्तक अच्छी पोस्ट,मेरी पोस्ट में आने का आभार .....

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन मुक्तक हैं......

    ReplyDelete
  14. बढ़िया रचना सुरेन्द्र भाई... वाह!
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  15. तीनों ही तस्वीरें बेहतरीन.

    तेरे चेहरे की झुर्रियां
    उम्र का सवाल है.
    अब भी लगती है तू हसीं
    मेरी नज़रों का कमाल है.

    ReplyDelete
  16. बहुत ही खुबसुरत....

    ReplyDelete
  17. सुंदर प्रस्तुति. प्यार तो बस प्यार ही होता है.

    ReplyDelete
  18. शीर्षक ही बहुत कुछ कह गया ! बधाई ! मेरे ब्लॉग का लिंक बदल गया है - नया लिंक-www.gorakhnathbalaji.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-687:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    ReplyDelete
  20. बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |

    मेरे प्रिय भ्राता की बात ही निराली है ......कितनी सही बात कही है है की जो बुझ जाए वो प्यास ही क्या.

    ReplyDelete
  21. तू जहाँ पर थी वहीँ , पदचिन्ह तेरे ढूंढता हूँ |
    तू गयी पर मैं तेरी,यादों से तुझको पूंछता हूँ |..

    behtreen likha hai sir ji...
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  22. क्या बात है इस मुक्तक की ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  23. एक ज़माना पहले जैसी, अब भी लगती हो |
    आँखों ही आँखों में बातें, करती लगती हो |
    चाल वही-मुस्कान वही- नज़रों का बाँकापन ,
    उम्र न कुछ कर सकी,उम्र को ठगती लगती हो |
    बहुत ही खुबसुरत |

    ReplyDelete
  24. क्या बात है ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर..
    आपके ब्लॉग पे पहली बार आना हुआ !

    ReplyDelete
  26. बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |

    bahut khoob!

    ReplyDelete
  27. .

    तू जहाँ पर थी वहीँ , पदचिन्ह तेरे ढूंढता हूँ |
    तू गयी पर मैं तेरी,यादों से तुझको पूंछता हूँ ...

    loving the expression...

    .

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  30. ये प्यास हमेशा बनी रहे तब तो सुन्दर रचना निकलेगी..

    ReplyDelete
  31. जिंदगी जब उदास होती है |
    तू मेरे आस-पास होती है |
    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |
    खूबसूरत रचना |

    ReplyDelete
  32. जिंदगी जब उदास होती है ।
    तू मेरे आस-पास होती है ।
    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है ।

    बहुत अच्छा मुक्तक लिखा है आपने।
    शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  33. Marvelous Lines -

    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |

    ReplyDelete
  34. तू जहाँ पर थी वहीँ , पदचिन्ह तेरे ढूंढता हूँ |
    तू गयी पर मैं तेरी,यादों से तुझको पूंछता हूँ |
    सुन्दर पंक्तियाँ ! लाजवाब रचना लिखा है आपने! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.com/

    ReplyDelete
  35. मेरे नए पोस्ट "वजूद' में आपका स्वागत है ...

    ReplyDelete
  36. जिंदगी जब उदास होती है |
    तू मेरे आस-पास होती है |
    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है |
    ...bahut khoob!
    sundar prastuti..

    ReplyDelete
  37. बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है....theek to kahe.....

    ReplyDelete
  38. बहुत खूब कहा है आपने..

    ReplyDelete
  39. हमेशा की तरह एक और प्यारी रचना....

    आभार आपका !

    ReplyDelete
  40. .

    बुझ गई गर तो प्यास ही कैसी ,
    प्यास तो सिर्फ प्यास होती है...

    waah !...Great lines...Loving it !


    .

    ReplyDelete
  41. प्रेमपूर्ण सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  42. जब भी ये दिल उदास होता हैं ,,जाने कौन आसपास होता हैं ..बहुत खूब !

    ReplyDelete