Friday, November 18, 2011

चल मेरे मीत नदी-तीर चलें

संग-सँग  राँझा  चलें , हीर  चलें |
चल  मेरे  मीत   नदी -तीर चलें |

चलें कुंजों की घनी छावों में |
प्यार  के  रंग  भरे गाँवों  में |
मस्त भँवरे हैं, गुनगुनाते हैं |
रस में डूबे हैं , गीत  गाते हैं |

दिल की तनहाइयों को चीर, चलें |

समां   बसंत   की   सुहानी है |
जहाँ    महकती   रातरानी है |
चाँदनी धरा-तल पे बिखरी है |
रूप  की  धवलपरी   उतरी है |

ऐसे में मन को कहाँ धीर ? चलें |

परिंदे    प्रेम-धुन     सुनाते हैं |
सैकड़ों    तारे     मुस्कराते हैं |
लताएँ    झूम-झूम   जाती हैं |
डालियाँ   चूम-चूम   जाती हैं |

प्यार  के  डोर बंधी पीर, चलें |

सिर्फ हरियाली ही हरियाली है |
हाय,  कैसी   छटा   निराली है !
कोई   बंदिश  है  ना  बहाना है |
एक   दूजे   में    डूब   जाना है |

आज हम तोड़ के जंजीर चलें |

48 comments:

  1. प्यार के डोर बंधी पीर, चलें |
    सुन्दर और खरी सच्चाई!
    सुन्दर गीत!

    ReplyDelete
  2. ऐसे में मन को कहाँ धीर ? चलें |
    बहुत बढि़या ।

    ReplyDelete
  3. चलें कुंजों की घनी छावों में |
    प्यार के रंग भरे गाँवों में |
    मस्त भँवरे हैं, गुनगुनाते हैं |
    रस में डूबे हैं , गीत गाते हैं |
    bahut hi badhiyaa

    ReplyDelete
  4. समां बसंत की सुहानी है |
    जहाँ महकती रातरानी है |
    चाँदनी धरा-तल पे बिखरी है |
    रूप की धवलपरी उतरी है |

    वाह ....खूबसूरत पंक्तियाँ

    ReplyDelete
  5. आपकी रचना से फिल्म पाकीज़ा का गीत याद आ गया: "चलो दिलदार चलो चाँद के पार चलो....."

    नीरज

    ReplyDelete
  6. हमेशा की तरह बेमिशाल रचना
    प्यारा गीत
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  7. सिर्फ हरियाली ही हरियाली है |
    हाय, कैसी छटा निराली है !
    कोई बंदिश है ना बहाना है |
    एक दूजे में डूब जाना है |
    बहुत प्यारा गीत रच डाला बधाई ........

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छी एवं रचना।
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  9. आय हाय..! कासे कहूँ..! कासे गीत यह गुनगुनाऊँ!...सुनाऊँ..! कासे कहूँ..!
    ..मस्त कर दिये भाई।

    ReplyDelete
  10. चलें कुंजों की घनी छावों में |
    प्यार के रंग भरे गाँवों में |
    मस्त भँवरे हैं, गुनगुनाते हैं |
    रस में डूबे हैं , गीत गाते हैं |
    बहुत सुन्दर गीत...

    ReplyDelete
  11. प्रवाहमयी सुंदर कविता. प्रकृति के साथ गुँथे भाव बहुत अच्छी तरह संप्रेषित हुए.

    ReplyDelete
  12. चलें कुंजों की घनी छावों में |
    प्यार के रंग भरे गाँवों में |
    मस्त भँवरे हैं, गुनगुनाते हैं |
    रस में डूबे हैं , गीत गाते हैं |

    Waah !! bahut sunder geet.

    ReplyDelete
  13. मन -मयूर नाच उठा सुन्दर गीत पर.

    ReplyDelete
  14. चलें कुंजों की घनी छावों में |
    प्यार के रंग भरे गाँवों में |
    मस्त भँवरे हैं, गुनगुनाते हैं |
    रस में डूबे हैं , गीत गाते हैं |
    बहुत खूब ....चलो सजना जहाँ तक घटा चले ...

    ReplyDelete
  15. Bahut achhi kavita,sundar bhaav !

    ReplyDelete
  16. चाँदनी धरा-तल पे बिखरी है |
    रूप की धवलपरी उतरी है |

    ऐसे में मन को कहाँ धीर ? चलें |

    सरस गेय और सुमधुर प्रेममयी कविता भैया ..बहुत सुंदर !

    ReplyDelete
  17. परिंदे प्रेम-धुन सुनाते हैं ।
    सैकड़ों तारे मुस्कराते हैं ।
    लताएँ झूम-झूम जाती हैं ।
    डालियाँ चूम-चूम जाती हैं ।

    कोमल, मधुर, मनभावन गीत...।

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  19. प्रेम पथ पर चलते हुए सारी सृष्टि का सौंदर्य आँखों में समा जाता है.बहुत सौंदर्यपूर्ण कविता.

    झंझट की प्रेम धुन सुन लीजे
    बन भ्रमर मकरंद चुन लीजे
    प्रेम का नगर यहीं बसाना है
    स्वर्ग सा दृश्य यहाँ सुहाना है.
    मीत अब न कहना,काश्मीर चलें...
    चल मेरे मीत, नदी तीर चलें......

    ReplyDelete
  20. दिल की तनहाइयों को चीर, चलें |बहुत बढि़या |

    ReplyDelete
  21. दिल की तनहाइयों को चीर, चलें |बहुत बढि़या |

    ReplyDelete
  22. दिल की तनहाइयों को चीर, चलें |

    सुन्दर गीत!

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर .... दिल की तनहाइयों को चीर चले...

    ReplyDelete
  24. Really very nice song! Congrats!

    ReplyDelete
  25. सुन्दर गीत मनोहर गीत गेय और सांगीतिक लय ताल लिए .भाव और माधुर्य की बयार लिए .

    ReplyDelete
  26. परिंदे प्रेम-धुन सुनाते हैं |
    सैकड़ों तारे मुस्कराते हैं |
    लताएँ झूम-झूम जाती हैं |
    डालियाँ चूम-चूम जाती हैं |

    बहुत सुंदर शाब्दिक श्रृंगार लिए पंक्तियाँ ...... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  27. मनमोहक प्रकृति चित्रण.

    ReplyDelete
  28. आज दोबारा पढ़ा और गुनगुनाया भी। सुंदर सुंदर सुंदर। धीर - चलें ; बहुत खूब। बधाई सुरेन्द्र भाई।

    ReplyDelete
  29. बेहतरीन प्रकृति का सुंदर चित्रण,आपकी
    यह रचना पाकीजा फिल्म के एक गाने
    की याद दिलाती है सुंदर पोस्ट,...
    मेरे पोस्ट में आकार अपने विचार देने के लिए,
    दिल से आभार,शुक्रिया...

    ReplyDelete
  30. परिंदे प्रेम-धुन सुनाते हैं |
    सैकड़ों तारे मुस्कराते हैं |
    लताएँ झूम-झूम जाती हैं |
    डालियाँ चूम-चूम जाती हैं |

    बहुत बेहतरीन प्रस्तुति... !

    ReplyDelete
  31. आज हम तोड़ के जंजीर चलें |
    सुंदर गीत

    ReplyDelete
  32. bhawon men sunder lay bandha hai......

    ReplyDelete
  33. " कोई बंदिश है ना बहाना है |
    एक दूजे में डूब जाना है |"
    बहुत ही सुन्दर हवा के रंग ! बिना भेद - भाव के !

    ReplyDelete




  34. प्रिय सुरेन्द्र सिंह "झंझट" जी
    सस्नेहाभिवादन !


    प्यारा गीत है

    सिर्फ हरियाली ही हरियाली है |
    हाय, कैसी छटा निराली है !
    कोई बंदिश है ना बहाना है |
    एक दूजे में डूब जाना है |

    आज हम तोड़ के जंजीर चलें |



    श्रेष्ठ रचना के लिए बधाई !
    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  35. परिंदे प्रेम-धुन सुनाते हैं
    सैकड़ों तारे मुस्कराते हैं
    लताएँ झूम-झूम जाती हैं
    डालियाँ चूम-चूम जाती ह

    वाह प्रेम की उन्मुक्त बयार बह रही है ...

    ReplyDelete
  36. सिर्फ हरियाली ही हरियाली है |
    हाय, कैसी छटा निराली है !
    कोई बंदिश है ना बहाना है |
    एक दूजे में डूब जाना है |

    आज हम तोड़ के जंजीर चलें |

    manbhaawan rachna...

    .

    ReplyDelete
  37. खूबसूरत पंक्तियों से सजी भावपूर्ण कविता...

    ReplyDelete
  38. सुरेन्द्र जी,
    मेरे नए पोस्ट आपका इंतज़ार है,....

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  40. वाह!! आनन्द आ गया...बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  41. बहुत ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण गीत ! सुन्दर प्रस्तुती!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  42. मस्त मस्त सुन्दर प्रस्तुति.
    पढकर मन मग्न हुआ जी.

    बहुत बहुत आभार.

    ReplyDelete
  43. परिंदे प्रेम-धुन सुनाते हैं |
    सैकड़ों तारे मुस्कराते हैं |
    लताएँ झूम-झूम जाती हैं |
    डालियाँ चूम-चूम जाती हैं |

    प्यार के डोर बंधी पीर, चलें |waah

    ReplyDelete