Saturday, January 7, 2012

..वही कमीशनखोरी है

वही घूंस है , वही कमीशन खोरी है |
वही   गुंडई  कायम   सीनाजोरी है |
वही पुलिस की लूट वही दादागीरी |
वही  दलाली  छुटभैया   नेतागीरी |
वही गाँव बदहाल वही झोपड़पट्टी |
जहां धधकती है महँगाई की भट्ठी |

वोट के सौदागर,क्या ये सब बदलेंगे |
झूठे वादे करने हैं .......सो  कर  लेंगे |

पर  जनता  को  जागरूक  बन जाना है |
सोच समझकर वोट का बटन दबाना है |



32 comments:

  1. वाह....बहुत खूब रचना...बधाई

    नीरज

    ReplyDelete
  2. बहुत ही जरुरी है , हमें सोंच समझ कर हाथ बढ़ने चाहिए ! बहुत सुन्दर जागरुक करती कविता ! बधाई

    ReplyDelete
  3. mhaul ke hisab se bahut achchi kavita hai

    ReplyDelete
  4. पर जनता को जागरूक बन जाना है |
    सोच समझकर वोट का बटन दबाना है |बहुत खूब.

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब.... वाह!
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब.... वाह!
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव्।

    ReplyDelete
  8. Vyang aur ant mein sandesh pasand aaya...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  9. सुंदर सन्देश देती खूबसूरत रचना.

    ReplyDelete
  10. सुंदर सन्देश

    सोचने को मजबूर करती है आपकी यह रचना ! सादर !

    ReplyDelete
  11. वर्तमान स्थिति का सही चित्रण।
    बढि़या रचना।

    ReplyDelete
  12. सोच समझकर बटन दवा कर ही लोकतंत्र को बचाया जा सकता है..

    ReplyDelete
  13. ak sakaratmak sandesh padhane ko mila ....abhar ke sath hi badhai Surendra ji.

    ReplyDelete
  14. बहुत सही लिखा है आपने ..

    ReplyDelete
  15. बेचारी जनता गलतियाँ दोहराने में ही खुश रहती हैं .......

    ReplyDelete
  16. अच्छा है भाई...जनता तो जनता ही रहेगी|

    ReplyDelete
  17. प्रिय बंधुवर सुरेन्द्र सिंह "झंझट" जी
    सस्नेहाभिवादन !

    पर जनता को जागरूक बन जाना है
    सोच समझकर वोट का बटन दबाना है

    सही लिखा आपने ...
    अच्छी प्रस्तुति !

    नव वर्ष 2012 के लिए बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  18. jaagruk karti rachna bahut achchi.

    ReplyDelete
  19. बेहद ख़ूबसूरत एवं उम्दा रचना ! बधाई !

    ReplyDelete
  20. बहुत ज़रूरी है.. बहुत ज़रूरी है..
    समझदारी यहाँ, बहुत ज़रूरी है!

    प्यार में फर्क पर अपने विचार ज़रूर दें...

    ReplyDelete
  21. बहुत खूब ... जागरूक रहना होगा ...
    मकर संक्रांति की शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  22. सुंदर सन्देश...के साथ सुंदर रचना

    ReplyDelete
  23. बहुत सार्थक अभिव्यक्ति सुंदर रचना,बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  24. खूब कहा है कि सोच समझ कर बटन दबाना है. सही है.

    ReplyDelete
  25. सन्देश देती अच्छी रचना,..

    NEW POST --26 जनवरी आया है....

    ReplyDelete
  26. पर जनता को जागरूक बन जाना है |
    सोच समझकर वोट का बटन दबाना है |

    जब सभी एक थैली के चट्टे बट्टे हों तो क्या करें झंझट भाई.
    आपकी सलाह पर सभी को गौर करना चाहिये.

    ReplyDelete