Friday, February 10, 2012

अलौकिक सुन्दरी

संगमरमर की   तराशी मूर्ति  हो तुम ,
या   अजन्ता की   कोई जीवित   कला ।
याकि हो अभिशप्त उतरी मृत्युभू पर ,
देवबाला    हो    कि .........कोई  अप्सरा ।

शांत यमुना सी    सुकोमल सुमन सी ,
श्याम घन सम केश सुन्दर कामिनी ।
या कि.......... भादौं की अँधेरी रात में ,
चीर घन   चमकी हो   चंचल दामिनी ।

स्वर्ण   सी    काया   महक चन्दन  उठे ,
या   सुमन   की  मधुर मोहक गंध हो ।
या  मनुज-स्वप्नों   की  अद्भुत सुन्दरी ,
या किसी कवि का सरस मधु छंद हो ।  

26 comments:

  1. सुन्दर, सुन्दर....

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. अच्छी कल्पना है "सुरेन्द्र जी" सुन्दरता की .....लेकिन इन सुन्दरियों के "झंझट" में मत पड़ना ...!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर भावाव्यक्ति शब्द संयोजन कमाल का बधाई

    ReplyDelete
  5. सुन्दर कल्पना से भी सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. kavi ke chhand me sab kuchh samaya hai.

    ati sundar.

    ReplyDelete
  7. वाह वाह, कमाल की प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. भाई केवल राम जी की सलाह पर जरूर गौर कीजियेगा,झंझट भाई.

    आपकी प्रस्तुति श्रृन्गार रस में पगी अच्छी लगी.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    ReplyDelete
  9. श्रृंगार का ऐसा सरस चित्रण अब कम ही देखने को मिलता है. बहुत ही सुंदर.

    ReplyDelete
  10. वाह! सुन्दर...
    बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  11. अच्छी लगी कविता

    ReplyDelete
  12. " या किसी कवि का सरस मधु छंद हो " । - आखिरी लाइन बेहद रोचक ! हम नहीं तो वो सुन्दरता नहीं ! बधाई जी !

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  14. Visit my new blog post @
    http://rahulpoems.blogspot.in/2012/02/blog-post.html

    ReplyDelete
  15. सुन्दर रूपसी चित्रण ...

    ReplyDelete
  16. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  17. कमाल की प्रस्तुति....
    सुंदर प्रस्तुति , स:परिवार होली की हार्दिक शुभकानाएं.......

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छी प्रस्तुति| होली की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  19. कमाल की रचना ...
    रंगोत्सव पर आपको शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. श्रृंगार रस से परिपूर्ण सरस प्रस्तुति....

    ReplyDelete