Friday, December 16, 2011

तीर से ना कमान से पूँछव

                      अवधी-गीतिका 

पूँछा चाहव  तौ शान से पूँछव |
देश  के   हुक्मरान   से पूँछव |

राजा  अन्दर-चिदंबरम बाहर,
चाल ! हाई कमान  से  पूँछव |

देश  माँ  बेईमानी  केतनी  है ?
पहिले अपने ईमान से पूँछव |

घाव पायन तौ सिर्फ अपनेन से,
तीर  से  ना  कमान   से  पूँछव |

देशभक्ती कै  काव मतलब है,
कौनों सीमप जवान से पूँछव |

तीर   कैसन  लगा  करेजे मा ,
कामिनी  के कमान से पूँछव |

हारे   नेता  कै  हाल   कैसन  है,
कौनौ कूकुर -किरान से पूँछव |

41 comments:

  1. यही... कोई पूछता ही तो नहीं.

    ReplyDelete
  2. प्रभावी लिखा है |

    ReplyDelete
  3. बहुत प्रभावी है सुरेन्द्र भाई यह गीतिका...
    तीखी चुटकी और कटाक्ष करती हुई....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  4. .

    घाव पायन तौ सिर्फ अपनेन से,
    तीर से ना कमान से पूछव ...

    People close to our hearts gives us the deepest wounds...

    .

    ReplyDelete
  5. देश माँ बेईमानी केतनी है ?
    पहिले अपने ईमान से पूछव |

    झंझट भाई,कमाल की प्रस्तुति है आपकी.
    बुरा जो देखन मैं गया बुरा न मिल्यो कोय
    जो घट खोजो आपनो,मुझ से बुरा न कोय.

    अंतर्मंथन की आवश्यकता है हर किसी को.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    ReplyDelete
  6. और एक बात ..
    गरीबी रेखा की लम्बाई चौड़ाई,
    कौनौ गरीब -किसान से पूछव |

    बेहतरीन रचना, सुंदर अभिव्यक्ति !

    आभार !!

    ReplyDelete
  7. तीखे सवाल जिनका कोई उत्तर देना नहीं चाहेगा क्यों कि सभी का अनुभव इस बारे में एक ही है :))

    ReplyDelete
  8. देशभक्ती कै काव मतलब है,
    कौनों सीमप जवान से पूछव |
    बिलकुल सही कहा है आपने...सुंदर अभिव्यक्ति ... आभार

    ReplyDelete
  9. Bada satik likhle bani...

    Bahut hi sundar evam satik vyang...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  10. Bada satik likhle bani...

    Bahut hi sundar evam satik vyang...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  11. kamal ki rachna hai..behtarin ek ek sher ka aanand uhtya..sadar badhayee

    ReplyDelete
  12. kamal ki rachna hai..behtarin ek ek sher ka aanand uhtya..sadar badhayee

    ReplyDelete
  13. वाह ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  14. वाह झंझट जी - इसे कहते है की जाके फटें न पैर वेबाय ,ऊ का जानी पीर परे ! बधाई

    ReplyDelete
  15. देश माँ बेईमानी केतनी है ?
    पहिले अपने ईमान से पूँछव |

    वाह ...गजब की पंक्तियाँ लिखी है आपने

    ReplyDelete
  16. आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा आज दिनांक 19-12-2011 को सोमवारीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  17. तीखे तीखे, सीधे-सपाट शब्दों के तीर

    ReplyDelete
  18. घाव पायन तौ सिर्फ अपनेन से,
    तीर से ना कमान से पूँछव |
    बेहतरीन छंद का जादू सर चढ़के बोलत है .भेद पीया के खलत है .

    ReplyDelete
  19. राजा अन्दर-चिदंबरम बाहर,
    चाल ! हाई कमान से पूँछव |

    वाह,बहुत खूब.

    ReplyDelete
  20. देश माँ बेईमानी केतनी है ?
    पहिले अपने ईमान से पूँछव |
    बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete
  21. Vah bhai Jhanjht ji mja aa gya ap to mere padosi thare ye aur majedar rha,,, abhar.

    ReplyDelete
  22. सुरेन्द्र जी, आपने गजब की रचना अवधी में लिखी,...पढकर मजा आ
    गया,...इस सुंदर रचना के लिए बहुत२ बधाई,......

    मेरी नई पोस्ट के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  23. बहुत खूब .व्यंग्य भी विनोद भी चुभन भी रोमांस भी ......

    ReplyDelete
  24. Gazab! Gazab! Gazab! Gazab!

    I like this avdhi geetika very much!

    Congrats!

    ReplyDelete
  25. हारे नेता कै हाल कैसन है,
    कौनौ कूकुर -किरान से पूँछव ...

    Great punches...Awesome !

    .

    ReplyDelete
  26. वाह...वाह...वाह...

    क्या बात कही...

    सभी के सभी कटु सत्य , पर मारक सुन्दर...

    ReplyDelete
  27. हारे नेता कै हाल कैसन है,
    कौनौ कूकुर -किरान से पूँछव | bahut badhiya surendra jee.

    ReplyDelete
  28. देशभक्ती कै काव मतलब है,
    कौनों सीमप जवान से पूँछव |
    लाजवाब रचना , आज के हुक्मरानों के मुहं म तमाचा है .

    ReplyDelete
  29. ख़ूबसूरत शब्दों से सुसज्जित उम्दा रचना के लिए बधाई!
    क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर एवं लयबद्ध रचना !
    आभार !

    ReplyDelete
  31. बहुत ही सुंदर भावों का प्रस्फुटन देखने को मिला है । मेरे नए पोस्ट उपेंद्र नाथ अश्क पर आपकी सादर उपस्थिति की जरूरत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  32. अवधी में ग़ज़ल / गीतिका कमाल की है सुरेन्द्र भाई। आप तो हरफ़नमौला हैं सर जी, बहुत खूब।

    ReplyDelete
  33. हारे नेता कै हाल कैसन है,
    कौनौ कूकुर -किरान से पूँछव |..... बहुत खूब

    ReplyDelete
  34. आनेवाले नववर्ष की आपको हार्दिक शुभकामनाएँ.

    सुरेंद्र जी,मेरी पोस्ट 'हनुमान लीला भाग-२' पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  35. तीर कैसन लगी करेजे मा ,
    कामिनी के कमान से पूँछव |waah

    ReplyDelete
  36. बहुत सुंदर प्रस्तुती बेहतरीन रचना,.....सुरेन्द्र जी कमाल है
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    ReplyDelete
  37. आपको और परिवारजनों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete