Monday, March 28, 2011

देश की अखंडता बचाइये

देश के लिए  जिए जो , देश के लिए लड़े जो ,
देश   के   लिए  मिटे जो ,   उनको  नमन है |
सारे  सुख-साज़-राज  त्यागि ,कूदे  देश की-
स्वतंत्रता की  आग में जो  उनको  नमन है |
हो गए शहीद , आज  तक  गुमनाम  हैं जो ,
भारती  के  भाल    लाल,  उनको   नमन है |
देश  की  स्वतंत्रता   ही   जिनका  था  धर्म,
चूमे फाँसी फंद शान से जो उनको नमन है |

शान्ति , सदभाव ,  सर्वधर्म -  समभाव  की ,
सदा  से  मेरे  देश  में   परम्परा   महान  है |
एक ओर श्याम की  विरह में दिवानी मीरा ,
एक   ओर  श्याम  रंग    डूबा   रसखान  है |
राम का आदर्श ,  गुरु नानक   का  उपदेश ,
सार जिन्दगी  में   ढाई आखर  का ज्ञान है |
आपसी लड़ाई में  , मिटा  दिया   इसे कहीं ,
तो कैसे कह पाओगे  कि  भारत महान है ?

द्वेष  रखने  से   फूट   देश  में  बढ़ेगी  मीत ,
हो   सके  तो    द्वार-द्वार   प्रेम    उपजाइए |
एकता जरूरी है  , भुला के सारा भेद आज ,
देश   है   पुकारता   कि  एक   बन  जाइए |
जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
सारे   भारती   हैं ,  भारतीयता   जगाइए |
राष्ट्र  खतरे  में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
मीत  आज  देश  की  अखंडता   बचाइए |


43 comments:

  1. सुन्दर कविता
    राष्ट्र को बचाने के लिए एकता जरूरी है।
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  2. जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए |
    राष्ट्र खतरे में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
    मीत आज देश की अखंडता बचाइए

    bahut sundar,
    hum bhi aapke sath hain,

    ReplyDelete
  3. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ..बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  4. शान्ति , सदभाव , सर्वधर्म - समभाव की ,
    सदा से मेरे देश में परम्परा महान है |
    एक ओर श्याम की विरह में दिवानी मीरा ,
    एक ओर श्याम रंग डूबा रसखान है |


    सुरेन्द्र भाई जी
    आपने सारा जीवन दर्शन समाहित कर दिया इन पंक्तियों में ..अब कहने को कुछ नहीं ...आपका आभार

    ReplyDelete
  5. शान्ति , सदभाव , सर्वधर्म - समभाव की ,
    सदा से मेरे देश में परम्परा महान है |
    एक ओर श्याम की विरह में दिवानी मीरा ,
    एक ओर श्याम रंग डूबा रसखान है |
    राम का आदर्श , गुरु नानक का उपदेश ,
    सार जिन्दगी में ढाई आखर का ज्ञान है |
    आपसी लड़ाई में , मिटा दिया इसे कहीं ,
    तो कैसे कह पाओगे कि भारत महान है ?
    waah surendra ji , desh ke ujle swaroop ko dikha diya

    ReplyDelete
  6. एकता जरूरी है , भुला के सारा भेद आज ,
    देश है पुकारता कि एक बन जाइए ।
    जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए ।
    राष्ट्र खतरे में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
    मीत आज देश की अखंडता बचाइए ।

    वाह, सुरेन्द्र जी, बहुत बढ़िया।
    देश भक्ति से परिपूर्ण यह रचना सार्थक संदेश भी दे रही है।

    ReplyDelete
  7. एकता जरूरी है , भुला के सारा भेद आज ,
    देश है पुकारता कि एक बन जाइए ।
    जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए ।
    राष्ट्र खतरे में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
    मीत आज देश की अखंडता बचाइए ।
    bahut prernadayak ....

    ReplyDelete
  8. देश भक्ति से परिपूर्ण यह रचना सार्थक संदेश दे रही है। धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. राष्ट्रीयता से ओत-प्रोत, एकता का संदेश देती उत्तम कोटि की रचना।

    ReplyDelete
  10. जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए |
    राष्ट्र खतरे में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
    मीत आज देश की अखंडता बचाइए

    सार्थक ओजपूर्ण आव्हान ...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  11. बिल्‍कुल सही कहा है आपने
    .....एकता का संदेश देती........सार्थक और भावप्रवण रचना।

    ReplyDelete
  12. कुछ लोग तो हैं, जो इस प्रकार भी लिख रहे हैं। देश-भक्ति पूर्ण कविता सराहनीय है। आभार।

    ReplyDelete
  13. सुन्दर भाव ...अखंडता ज़रूरी है ..

    ReplyDelete
  14. द्वेष रखने से फूट देश में बढ़ेगी मीत ,
    हो सके तो द्वार-द्वार प्रेम उपजाइए |
    एकता जरूरी है , भुला के सारा भेद आज ,
    देश है पुकारता कि एक बन जाइए |....


    देश की एकता और अखंडता पर देशप्रेम की भावनाओं में रची-बसी खूबसूरत रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  15. जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए |
    काश ! यह विचार सब के होते , सुन्दर रचना बधाई

    ReplyDelete
  16. वाह! झंझट भाई वाह!
    क्या शानदार उद्गार हैं आपके.
    जी करता है बार बार गाऊं
    "द्वेष रखने से फूट देश में बढ़ेगी मीत ,
    हो सके तो द्वार-द्वार प्रेम उपजाइए |
    एकता जरूरी है , भुला के सारा भेद आज ,
    देश है पुकारता कि एक बन जाइए |"
    सुन्दर प्रेरणापूर्ण प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार आपका.

    ReplyDelete
  17. बहुत खूब.
    सन्देश परक.

    ReplyDelete
  18. .

    राष्ट्र खतरे में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
    मीत आज देश की अखंडता बचाइए ....

    देश-प्रेम से बढ़कर कोई प्रेम नहीं । कविता के माध्यम से एक सार्थक अपील । रचना का काव्य एवं उद्देश्य , दोनों ही उत्कृष्ट हैं। -बधाई।

    .

    ReplyDelete
  19. आद. झंझट जी,
    देश भक्ति में डूबे आपके छन्द देश- प्रेम की ज्योति बनकर दिल में उतर गए !
    गति,लय,ताल,शब्द,भाव, अभिव्यक्ति और सम्प्रेषण सभी कुछ समाहित है इनमें !
    आभार !

    ReplyDelete
  20. मुझे बहुत ही अच्छे शब्द लगते है आपके पोस्ट के ! हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर जरुर आना !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    ReplyDelete
  21. hamare desh me log khud ko ya to bengali samjhte hain ya bihaari ya rajasthani ya punjabi......

    akhandta tab hogi jab sab khud ko pehle indian/bhartiye samjhenge.......

    saarthak rachna ke liye badhaai......

    ReplyDelete
  22. सुरेन्द्र भाई बहुत सुंदर कविता बधाई |

    ReplyDelete
  23. Han! ham sabon ko desh ki akhandta bachani hai....sundar aahvahn...achchhi rachana

    ReplyDelete
  24. देश भक्ति से परिपूर्ण यह रचना सार्थक संदेश भी दे रही है।

    ReplyDelete
  25. आपकी प्रस्तुत कविताओं में देश प्रेम बाखूबी मुखर होकर उभरा है.बहुत सुन्दर पंक्तियाँ .

    ReplyDelete
  26. राष्ट्र हित में बहुत अच्छा सन्देश .....
    इस कविता के लिए नमन है आपको ....

    ReplyDelete
  27. हाय!
    क्या हो रहा है मैं अपना पुराना बलोग बदल गया है?
    आप नीचे मेरी नई टिप्पणी है

    और Plz मुझे एक नई टिप्पणी दे आपकी याद आती है.

    मेरा नया बलोग है ... ..
    .
    .
    .
    .
    .
    .http://smshindi-smshindi.blogspot.कॉम

    "आगे "

    दम हैं नई टिप्पणी दे


    मिस करने के लिए...............आपका सोनू

    ReplyDelete
  28. बहुत अच्छी पोस्ट |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  29. देश है पुकारता कि एक बन जाइए |
    जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए |
    राष्ट्र खतरे में , कहीं हो न जाए खंड-खंड ,
    मीत आज देश की अखंडता बचाइए |
    ..
    ..
    सुरेन्द्र भाई जी ....आप मेरे संबल अगर है तो ऐसे ही थोड़े है मुझे आप पर नाज है.
    आज किसे देश कि चिंता है..
    बहुत सुन्दर भाई जी !

    ReplyDelete
  30. भाई जी आप आज्ञा दें तो मैं भी एक बार छंद लिखने का प्रयास करूं ?...मुझे मेल पर बताना भाई जी !

    ReplyDelete
  31. आपसी लड़ाई में , मिटा दिया इसे कहीं ,
    तो कैसे कह पाओगे कि भारत महान है ?
    bahut sarthak aahvan yadi ise sun le bharat kee janta to shayad desh ka kuchh bhala ho sakta hai.

    ReplyDelete
  32. राष्ट्रप्रेम से ओतप्रोत बहुत अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  33. आदरणीय सुरेन्द्र सिंहजी
    अच्छी रचना और अच्छे भाव

    ReplyDelete
  34. द्वेष रखने से फूट देश में बढ़ेगी मीत ,
    हो सके तो द्वार-द्वार प्रेम उपजाइए |

    Bahut khoob....aapke vicharon,udgaron aur bhawnaon ko naman...

    ReplyDelete
  35. जाति या धरम चाहे भाषाएँ अनेक किन्तु ,
    सारे भारती हैं , भारतीयता जगाइए ...

    जितनी बार पढ़ती हूँ , मन एक नए ओज से भर जाता है । उल्लास का संचार करती अद्भुत पंक्तियाँ ।

    नमन है कवि की लेखनी को ।

    .

    ReplyDelete
  36. वाह बंधु वाह, क्या खूब घनाक्षरी छन्द प्रस्तुत किए हैं आपने| बहुत खूब| बहुत बहुत बधाई| समस्या पूर्ति मंच पर आप को पढ़ने के लिए लालायित हूँ| घोषणा होते ही सूचना दूँगा|

    ReplyDelete
  37. नव-संवत्सर और विश्व-कप दोनो की हार्दिक बधाई .

    ReplyDelete