Wednesday, March 23, 2011

होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते

आज शहीदे आज़म सरदार भगत सिंह एवं  उनके अभिन्न क्रन्तिकारी साथी राजगुरु और सुखदेव की   पुण्य तिथि है  | सांडर्स हत्या प्रकरण में २३ मार्च १९३१ को इन भारतमाता के अमर पुत्रों को अंग्रेजों द्वारा 
 फाँसी की सजा दे दी गयी | देश की आज़ादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देने वाले इन्ही क्रन्तिकारी शहीदों की देन है हमारे देश की आज़ादी | 
       मात्र २३ वर्ष ३ माह २५ दिन की उम्र में सरदार भगत सिंह को फांसी दीगयी| अन्य क्रांतिकारियों  की  तुलना में सरदार भगत सिंह की लड़ाई कुछ लीक से हटकर थी |  जहाँ अनगिनत आज़ादी के योद्धा  देश को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त कराने के लिए अपने प्राण हथेलियों  पर रखकर जूझ रहे थे , वहीं सरदार भगत सिंह देश को अंग्रेजों की दासता के साथ-साथ साम्राज्यवाद के चंगुल से भी मुक्त किये जाने का संकल्प लिए आज़ादी की लड़ाई लड़ रहे थे | उनका मानना था कि जब तक  देश की सर्वोच्च सत्ता में   किसानों  और  मजदूरों  का  वर्चस्व  नहीं  होगा ,देश को वास्तविक  आज़ादी  नहीं  मिल  सकती |  उनकी  विचारधारा    शत प्रतिशत प्रासंगिक होते हुए भी आज तक अधर में ही है |  स्वार्थलोलुप राजनेता उनकी  विरासत को छिन्न-भिन्न करने में लगे हैं |
       हम सरदार भगत सिंह के सपनों का भारत बनाने में स्वयं का जितना योगदान कर सकें, कम है | सरदार भगत सिंह एवं उनके साथी क्रांतिकारियों, राजगुरु और सुखदेव के अमर बलिदान के प्रति  हमारी सच्ची श्रद्धांजलि भी यही होगी |

    और अंत में बस इतना ही.........
                                                   अन्याय जो बर्दास्त कभी कर नहीं सकते |
                                                   बन्दूक, तोप से भी वे कभी डर नहीं सकते |
                                                   हर दिल  में    सदा रहते  शूरवीर  की   तरह ,
                                                   होते हैं जो   शहीद   कभी मर   नहीं   सकते |

                                                    गुंडों का नहीं है ये दलालों का नहीं है |
                                                    डंडों का नहीं है   ये हवालों का नहीं है |
                                                    यह देश है  हमारे शहीदों की अमानत ,
                                                    यह   देश,   देश बेंचनेवालों   का नहीं है |
           

37 comments:

  1. शुक्रिया महान सपूतों की याद दिलाने के लिए .

    ReplyDelete
  2. भारत माता के इन महान सपूतों की याद में शीश झुकाने को याद दिलाने के लिए .

    ReplyDelete
  3. "होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते" बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ हैं. शहीदों का बलिदान ही उनकी याद दिलाता रहेगा.

    आभार.

    ReplyDelete
  4. भारत माँ के इन महान सपूतों को शत शत नमन.आपने क्या शानदार लिखा है
    'होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते ..... देश की आज़ादी के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर देने वाले इन्ही क्रन्तिकारी शहीदों की देन है हमारे देश की आज़ादी |
    स्वार्थलोलुप राजनेता उनकी विरासत को छिन्न-भिन्न करने में लगे हैं |
    हम सरदार भगत सिंह के सपनों का भारत बनाने में स्वयं का जितना योगदान कर सकें, कम है | सरदार भगत सिंह एवं उनके साथी क्रांतिकारियों, राजगुरु और सुखदेव के अमर बलिदान के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि भी यही होगी '

    ReplyDelete
  5. भारत माँ के इन महान सपूतों को शत शत नमन

    "होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते" बहुत ही सुन्दर पंक्तियाँ हैं

    ReplyDelete
  6. मै आज अपने संस्था के प्रोग्राम में ब्यस्त था ..आप का ब्लॉग देखते ही याद आ गया ! बहुत ही सुन्दर पंकतिया आप ने लिखा है ! इन महान नीव के बलिदानियो को मेरी सच्ची श्रधांजलि

    ReplyDelete
  7. अमर शहीदों की पावन याद में
    लिखा गया आपका आलेख
    बहुत प्रभावशाली रहा .
    आपकी दुआओं में हम सब शामिल हैं ....
    अभिवादन .

    ReplyDelete
  8. भारत माता के इन सपूतो को मेरी सच्ची श्रन्धांजलि !

    ReplyDelete
  9. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. शहीद भगत सिंह….जिंदाबाद शहीद भगत सिंह….जिंदाबाद


    इंकलाब…जिंदाबाद !

    ReplyDelete
  11. गुंडों का नहीं है ये दलालों का नहीं है |
    डंडों का नहीं है ये हवालों का नहीं है |
    यह देश है हमारे शहीदों की अमानत ,
    यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है |

    आज तो आपकी कलम मेरे दिल को चीर गयी.
    आपको दिल की कलम से सलाम.

    ReplyDelete
  12. गुंडों का नहीं है ये दलालों का नहीं है |
    डंडों का नहीं है ये हवालों का नहीं है |
    यह देश है हमारे शहीदों की अमानत ,
    यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है |....

    अंतस को झकझोरती हुई मर्मस्पर्शी रचना ....
    यही ज़ज्बा सभी के दिल में हो तो देश के हालात सुधर जाएं...
    बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  13. यह देश है हमारे शहीदों की अमानत , यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है |

    आपका कहना सही है ....इस साहस के लिए आपको हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  14. हर दिल में सदा रहते शूरवीर की तरह ,
    होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते |

    भारत माता के इन सपूतो का क़र्ज़ तो हम कभी नहीं चुका सकते .... इन महान सपूतों को हमारा शत शत नमन....
    बहुत अच्छा और सार्थक लेखन....

    ReplyDelete
  15. शहीदों को आपने सच्ची श्रधान्जलि अर्पित की है , आभार।

    ReplyDelete
  16. यह देश है हमारे शहीदों की अमानत ,
    यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है-bahut sateek shabdon me shaheedon ko yaad kiya hai .aabhar .

    ReplyDelete
  17. अमर शहीदों को मेरा शत शत नमन जिन्दावाद वीर भगत राज गुरु सुखदेव जिनहोने आज हमें आज खुली हवा में सांस लेने का अवसर दिया !

    ReplyDelete
  18. देश के शहीदो केा नमन
    शहीदो की चिताओ लगेंगे हर बरस मेले
    वतन पर मिटने वालों का यही बाकी निशा होगा

    सार्थक आलेख के लिए आभार

    ReplyDelete
  19. शहीदो की चिताओ लगेंगे हर बरस मेले
    वतन पर मिटने वालों का यही बाकी निशा होगा

    ReplyDelete
  20. यह देश है हमारे शहीदों की अमानत ,
    यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है |

    सुरेश जी , इतनी उम्दा , ओजमयी पंक्तियों से मन प्रसन्न हो गया।

    .

    ReplyDelete
  21. हर दिल में सदा रहते शूरवीर की तरह ,
    होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते |
    ekdam theek.bahut achchi lagi.

    ReplyDelete
  22. Ye desh hai Saheedon ka aur Sacche sapooton ka,par durbhagya vash is par kapoot raj kar rahe.Kya Middle East aur arab deshon me ho rahi kranti se ham kuchh seekhenge ...shayad shaheedon ko hamari yahi sacchhi shraddhanjali hogi

    ReplyDelete
  23. अमर शहीदों को नमन .....

    ReplyDelete
  24. शहीदों को शत शत नमन!

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर ... पंक्तियाँ....सार्थक विचार...
    नमन इन वीर देशभक्तों को....

    ReplyDelete
  26. प्रिय भाई जी, आपसे पूरी तह इत्तेफाक रखते हुए आपकी इस श्रद्धांजलि में शामिल होते हुए..वीर शहीदों को नमन. ...आपने सच कहा है भाई.
    गुंडों का नहीं है ये दलालों का नहीं है |
    डंडों का नहीं है ये हवालों का नहीं है |
    यह देश है हमारे शहीदों की अमानत ,
    यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है |

    ReplyDelete
  27. सुंदर अभिव्यक्ति |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  28. एक बेहतरीन रचना के लिए आभार !

    ReplyDelete
  29. होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते |

    bilkul sach
    sunder aalekh

    ReplyDelete
  30. भारत माँ के इन महान सपूतों को शत शत नमन.आपने क्या शानदार लिखा है
    अन्याय जो बर्दास्त कभी कर नहीं सकते | बन्दूक, तोप से भी वे कभी डर नहीं सकते | हर दिल में सदा रहते शूरवीर की तरह , होते हैं जो शहीद कभी मर नहीं सकते | गुंडों का नहीं है ये दलालों का नहीं है |
    डंडों का नहीं है ये हवालों का नहीं है |
    यह देश है हमारे शहीदों की अमानत ,
    यह देश, देश बेंचनेवालों का नहीं है
    काश ये बात हिंदुस्तान का हर आदमी समझता काश ये राजनेता समझते तो देश का ये हाल न होता बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  31. इन महान सपूतों को शत शत नमन. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  32. वंदे मातरम !
    शहीदों को शत शत नमन.

    ReplyDelete
  33. बेहतरीन प्रस्तुति|महान सपूतों को शत शत नमन|

    ReplyDelete
  34. शहीदों को नमन.

    ReplyDelete
  35. Bahut sundar prastuti...shahidon ko hardik naman

    ReplyDelete