Saturday, July 9, 2011

इंसान और राक्षस

दिल करता है 
नोच डालूँ नकाब 
अपने चेहरे का 

नोच-नोच कर फेंक दूं 
वे सारे पर सुर्खाब के  
जो लोगों ने 
जबरदस्ती 
मुझमे जमा रक्खा है 

मैं 
जो अब तक 
आदमी नहीं बन सका 
बेवजह 
लोगों ने 
फ़रिश्ता बना रक्खा है 

भरी बाज़ार में नंगा कर दूँ
अपने अंतस में छिपे शैतान को 
और
 चिल्ला-चिल्ला कर बता दूँ
हर खासो आम को 
अपनी असलियत 
दिखा दूँ ...
शराफत के परदे में 
पल रही हैवानियत 

जिंदगी और मौत 
में 
क्या फर्क है ....
भूल जाऊँ
पश्चाताप की आग में जलूँ
और जलकर 
यदि निखर सकूँ कुंदन सा
तो निखर जाऊँ 

और यदि नहीं 
तो अपने अंतस के राक्षस को 
मजबूती से पकड़कर 
उसी के साथ.....
अपने इंसान के हाथों 
फाँसी का फंदा बनाकर 
खड़ा-खड़ा  झूल जाऊँ 


60 comments:

  1. मैं
    जो अब तक
    आदमी नहीं बन सका
    बेवजह
    लोगों ने
    फ़रिश्ता बना रक्खा है
    Khoob..... Man ko Udwelit karati panktiyan...

    ReplyDelete
  2. ऐसा अंतर्द्वंद ही इंसान तो आम इंसान से अलग करता है ..अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  3. बहुत खतरनाक इरादे है झंझट भाई आपके.
    जो आपकी नेक नियति का बयान कर रहे हैं.
    आप ईश्वर के करीब जा रहें हैं,ऐसा आपकी
    छटपटाहट से जाहिर है.
    प्रभु शान्ति प्रदान करें.
    ओम् शान्ति,शान्ति,शान्ति !

    ReplyDelete
  4. और यदि नहीं
    तो अपने अंतस के राक्षस को
    मजबूती से पकड़कर
    उसी के साथ.....
    अपने इंसान के हाथों
    फाँसी का फंदा बनाकर
    खड़ा-खड़ा झूल जाऊँ
    vyathit bhavpravan abhivyakti.

    ReplyDelete
  5. ऐसे अंतर्द्वंद्व और अंतर्विरोधों के बीच झूलती मानसिकता की अच्छी तस्वीर बनाई है आपने. बढ़िया.

    ReplyDelete
  6. बेहद गहन चिन्तन्।

    ReplyDelete
  7. जलकर
    यदि निखर सकूँ कुंदन सा
    तो निखर जाऊँ

    वाह आत्म मंथन का अद्भुत उदाहरण है ये कृति| बधाई बन्धुवर|

    बेहतर है मुक़ाबला करना

    ReplyDelete
  8. जलकर
    यदि निखर सकूँ कुंदन सा
    तो निखर जाऊँ

    जल कर निखरने में ही सभी की भलाई है .

    ReplyDelete
  9. संसद और विधानसभा में बैठने वाले लोगों का आत्ममंथन लग रहा है ये

    ReplyDelete
  10. मजबूती से पकड़कर
    उसी के साथ.....
    अपने इंसान के हाथों
    फाँसी का फंदा बनाकर
    खड़ा-खड़ा झूल जाऊँ
    ......अंतर्द्वंद..अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. अंतर्द्वंद्व और अंतर्विरोधों की अच्छी तस्वीर, बधाई

    ReplyDelete
  12. आत्म मंथन और अंतर्द्वंद्व की सार्थक और सशक्त अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  13. जिंदगी और मौत
    में
    क्या फर्क है ....
    भूल जाऊँ
    पश्चाताप की आग में जलूँ
    और जलकर
    यदि निखर सकूँ कुंदन सा
    तो निखर जाऊँ
    waah, bahut badhiyaa

    ReplyDelete
  14. अपने आप से झुझते हुए इंसान का चित्रण,

    ReplyDelete
  15. जिंदगी और मौत
    में
    क्या फर्क है ....
    भूल जाऊँ
    पश्चाताप की आग में जलूँ
    और जलकर
    यदि निखर सकूँ कुंदन सा
    तो निखर जाऊँ ........

    आत्म मंथन की अद्भुत और सशक्त अभिव्यक्ति........
    लाजवाब रचना.......

    ReplyDelete
  16. वाह वाह ! ऐसा अंतर्द्वंद !!

    अदितिय रचना कहीं आदमी जिंदा है आप में जो चीखना चाहता है बाहर आना चाहता है , यह हर मनुस्या की मनः स्थिति है जो जिंदा है जो केवल जी नही रहा है ,

    अदभुद शब्द-शिल्प अदभुद विचार !

    यह वो जीवन है जो हम जी रहे हैं या शायद वो हमैन खींच रहा है अंत की ओर !!

    लोग मार चुके हैं अपने जमीर को और उनके भीतर कहीं वो आदमी नही जिंदा जो ऐसे अंतर्द्वंद को पैदा करे !

    {{ केवल कॉमेंट के लिए कुछ लाइन्स कॉपी और पेसटे करना यही करते हैं ब्लॉग जगत के लोग }} sorry if i heart some -once feelings !

    ReplyDelete
  17. इसी स्वगत कथन खुद से गुफ़्त -गू के दौरान निषेचित और प्रसवित होती है रचना .जिसके भीतर का यह आदमी ज़िंदा है उसके सुधार की शुरुआत हो चुकी है ."गिरतें हैं शह-सवार ही मैदाने जंग में ,वह तिफ्ल क्या जो रेंग के घुटने के बल चले ".बहुत अच्छी रचना खुद से खुद को मिलवाती हुई .भाई पार्थ यदि ब्लोगिये भी आम को ख़ास बतलातें हैं तो वह भी तो इसी समाज के उप -उत्पाद हैं .इतर ग्रह वासी तो नहीं हैं न .इसमें बुरा मान ने की क्या बात है ?अंतर -दर्शन तो अंतर दर्शन है जब हो जाए ठीक .जो करवादे उसका शुक्रिया .

    ReplyDelete
  18. क्या नेक इरादे हैं ज़नाब के...बधाई

    ReplyDelete
  19. The inner turmoil, churning, anxiety and helplessness originated due to atrocities in our society is beautifully expressed in this creation . Very impressive indeed.

    ReplyDelete
  20. हर आदमी इस अंतर्द्वंद्व से कभी न कभी गुजरता है। लेकिन इस अनुभूति को केवल आप ही शब्दों में बांध सकते हैं।
    एक उत्कृष्ट कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  21. ये हमारी सच्चाई है ,हममे ही राक्षस छुपा होता है जिससे अघोषित युद्ध चलता रहता है.ये हमारी ईमानदारी है कि हम इसे स्वीकार करें .बहुत अच्छी लगी

    ReplyDelete
  22. हमेशा की तरह अच्छी रचना .. बधाई l

    ReplyDelete
  23. बहुत खूब ... आत्ममंथन करती है रचना .... अपने आप से लड़ती है ... बदलाव की शुरुआत इसी से होती है ...

    ReplyDelete
  24. काश राक्षसी प्रवृत्ति वाले आपकी बात समझ पाते.

    ReplyDelete
  25. प्रिय ब्लोग्गर मित्रो
    प्रणाम,
    अब आपके लिये एक मोका है आप भेजिए अपनी कोई भी रचना जो जन्मदिन या दोस्ती पर लिखी गई हो! रचना आपकी स्वरचित होना अनिवार्य है! आपकी रचना मुझे 20 जुलाई तक मिल जानी चाहिए! इसके बाद आयी हुई रचना स्वीकार नहीं की जायेगी! आप अपनी रचना हमें "यूनिकोड" फांट में ही भेंजें! आप एक से अधिक रचना भी भेजें सकते हो! रचना के साथ आप चाहें तो अपनी फोटो, वेब लिंक(ब्लॉग लिंक), ई-मेल व नाम भी अपनी पोस्ट में लिख सकते है! प्रथम स्थान पर आने वाले रचनाकर को एक प्रमाण पत्र दिया जायेगा! रचना का चयन "स्मस हिन्दी ब्लॉग" द्वारा किया जायेगा! जो सभी को मान्य होगा!

    मेरे इस पते पर अपनी रचना भेजें sonuagra0009@gmail.com या आप मेरे ब्लॉग sms hindi मे टिप्पणि के रूप में भी अपनी रचना भेज सकते हो.

    हमारी यह पेशकश आपको पसंद आई?

    नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है! मेरा ब्लॉग का लिंक्स दे रहा हूं!

    हेल्लो दोस्तों आगामी..

    ReplyDelete
  26. अंतरात्मा की आवाज ! अच्छा होता सभी इसी तरह की सोंच और सुधर के आदि होते और दूसरो पर अंगुली उठाने के बदले अपने अन्दर झाँक कर देखते और झुझालातें ! बहुत सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  27. अंतर्द्वंद्व की सशक्त अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  28. सुरेन्द्र जी बड़ी ही ओजपूर्ण और झटके देने वाली रचना...सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  29. काश ये अनुभूति हिन्दुस्तान के रहनुमाओं को भी हो .
    s

    ReplyDelete
  30. सुरेन्द्र भाई, लाज़वाब कर दिया आपने......
    सादर...

    ReplyDelete
  31. आपके इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवारीय चर्चा मंच पर भी आप तशरीफ लाएं और अपने सुझावों से अवगत कराएं लिंक-http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  32. शायद कुछ आचरणों पर बहुत ही सूक्ष्म और तीक्ष्ण कटाक्ष है.यह आत्म-मंथन होने लगे तो जग में एक चहरे पे कई चहरे न हों.

    ReplyDelete
  33. बेहद खुबसुरती से आपने चित्रित किया है इंसान के अंदर बसे हुए शैतान को। वैसे हर इंसान के अंदर एक शैतान रहता है। खुबसुरत रचना। आभार।

    ReplyDelete
  34. भरी बाज़ार में नंगा कर दूँ
    अपने अंतस में छिपे शैतान को
    और
    चिल्ला-चिल्ला कर बता दूँ
    हर खासो आम को
    अपनी असलियत
    दिखा दूँ ...
    शराफत के परदे में
    पल रही हैवानियत



    बुद्धि का अंकुश ही इस हैवान को
    इन्सान बनाए रखता है ||

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  35. बेवजह
    लोगों ने
    फ़रिश्ता बना रक्खा है ....
    बढ़िया प्रस्तुति....... आभार।

    ReplyDelete
  36. पश्चाताप की आग में जलूँ
    और जलकर
    यदि निखर सकूँ कुंदन सा
    तो निखर जाऊँ !

    Waah ! Antardwand ko paribhashit karne ka kya khoob tarika bataya aapne... Badhai..

    ReplyDelete
  37. सुरेन्द्र भाई ,
    छन्द बद्ध कविता में तो आपको महारथ हासिल है ही मगर छन्द मुक्त कविता में भी आपका जवाब नहीं ! आदमी के बस आदमी बने रहने की अकुलाहट का आपने जो शब्द चित्र उकेरा है उसे पढ़कर निशब्द हूँ !
    आभार !

    ReplyDelete
  38. मन के शैतान को बाहर लाना आसान नहीं है ..
    ये द्वंध ता उम्र चलता है ..मन की भीतर
    कौन सचा कौन झूठा ....कोई साबित नहीं कर पाया
    आपको बधाई की आपने अपने मन के सच को लिखने की हिम्मत की
    हर इंसान...दो चहेरे लिए पूरी उम्र जीता है ..........

    --

    ReplyDelete
  39. मैं
    जो अब तक
    आदमी नहीं बन सका
    बेवजह
    लोगों ने
    फ़रिश्ता बना रक्खा है


    मर्मस्पर्शी एवं भावपूर्ण काव्यपंक्तियां....

    ReplyDelete
  40. सुन्दर रचना बधाई

    ReplyDelete
  41. भाई सुरेन्द्र जी आपकी यह कविता बहुत ही सुंदर है बधाई |आपकी टिप्पणियाँ भी बहुत प्रभावशाली असर छोड़ती हैं |

    ReplyDelete
  42. बहुत ही उत्तेजनात्मक कविता है.. और हर एक की सच्चाई भी.. अच्छी लगी..

    परवरिश पर आपके विचारों का इंतज़ार है..
    आभार

    ReplyDelete
  43. kash ye netaaon ke man ka antardwand hotaa!!!

    ReplyDelete
  44. bahut hi khub likha hai apne,,,,,,
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  45. aadenniya surendra ji.. aapke baare mein bahut kuch kahna hai...civil engineering se hindi mein snatkottar aapke hindi ke prati agadh prem ko pradarshir karta hai...hazaron kavitayein sirf dil mein kampan paida kar pati hain..per aapki kavitayein jhakjhor deti hain... aapne likha samman ke layak samjhta nahi logon ne kar diya..main kahta hoon ..shradha to natmastak hoti ho shradheya agar koi...aap samman ke patra hain..isliye samman ka ye samman hai ye to..aur aap mere padosi hain..bahhnan se gonda kitni door hai..phir eun hi kisi roj mulakat hogi phir baithege phir baat hogi...

    ReplyDelete
  46. बस सोच रही हूँ कि कितने लोग संसार में हैं ऐसे जो इस तरह से अपने को देख पाते हैं.....

    यदि इस तरह देख पायें तो स्थान ही कहाँ बचे किसी शैतान के लिए...

    अप्रतिम रचना !!!!

    ReplyDelete
  47. वन्दनीय...अनुकरणीय चिन्तन...

    ReplyDelete
  48. यकीन मानिए झंझट साहब ये पंक्तियाँ एक आवेग में बहा लेजाती हैं पूरी की पूरी शख्शियत को मेरी, तेरी, काले चोर की ,उस बिजूके की ,रोबो की, जो कहता है -वोट मिला भाई वोट मिला ,पांच साल का वोट मिला .

    ReplyDelete
  49. बहुत बढ़िया लगा ! लाजवाब प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  50. राक्षस को मारिए भाई जी ख़ुद फांसी पर झूलना मूर्खता हे...बहुत अच्छी रचना

    ReplyDelete
  51. और यदि नहीं
    तो अपने अंतस के राक्षस को
    मजबूती से पकड़कर
    उसी के साथ.....
    अपने इंसान के हाथों
    फाँसी का फंदा बनाकर
    खड़ा-खड़ा झूल जाऊँ


    अंतस को झकझोरती हुई बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  52. काश मानव ऐसा कर पाए ....बेहतरीन रचना के लिए आभार !
    हार्दिक शुभकामनायें ..

    ReplyDelete
  53. bahut hi achi rachna...
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  54. मैं
    जो अब तक
    आदमी नहीं बन सका
    बेवजह
    लोगों ने
    फ़रिश्ता बना रक्खा है

    वाह भाई जी क्या गज़ब का साहस दिखाया है इस बार....अनुकरणीय !

    ReplyDelete