Thursday, June 30, 2011

साँप आस्तीन के, कंठ चूमने लगे

बाग़   सूखने   लगे | 
झाड़   झूमने   लगे | 

साँप   आस्तीन  के ,
कंठ    चूमने    लगे |

क्रान्ति का घोष था ,
लोग   ऊँघने    लगे |

हम  तो  आदर्श को ,
सिर्फ   पूजने   लगे |

देखिये  तो !  मधुप-
स्वर्ण   सूंघने   लगे |

उसने सच कह दिया ,
लोग    ढूँढने     लगे |

गाँव     के     पहरुए ,
गाँव     लूटने    लगे |

हम  स्वयं  का  पता ,
खुद   से  पूंछने  लगे |

स्वार्थ  के  सिन्धु  में ,
हंस      डूबने     लगे |

शूल   ने    छू   लिया ,
ज़ख्म   पूरने     लगे  | 

52 comments:

  1. सुरेन्द्र जी
    वाह..क्या खूब...बहुत लाजवाब

    ReplyDelete
  2. स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे |
    ...सच्चाई बता दी......जबर्दस्त

    ReplyDelete
  3. करीब १५ दिनों से अस्वस्थता के कारण ब्लॉगजगत से दूर हूँ

    ReplyDelete
  4. स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे |

    शूल ने छू लिया ,
    ज़ख्म पूरने लगे

    वाह धारा प्रावाह ...और बेहद सटीक.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  6. बेशक अच्छा लिखते हैं आप

    ReplyDelete
  7. स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे |

    शूल ने छू लिया ,
    ज़ख्म पूरने लगे

    बहुत अच्छी रचना....... सच कहती हुई.......

    ReplyDelete
  8. उसने सच कह दिया,
    लोग ढूँढने लगे|

    गाँव के पहरुए,
    गाँव लूटने लगे|
    बहुत सुंदर रचना बन पड़ी है.

    ReplyDelete
  9. 'हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूंछने लगे'

    हालात का अच्छा चित्रण, भई वाह!

    ReplyDelete
  10. क्रान्ति का घोष था ,
    लोग ऊँघने लगे

    उसने सच कह दिया ,
    लोग ढूँढने लगे

    स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे

    सुभान अल्लाह...छोटी बहार में कमाल की ग़ज़ल हर शेर बेहतरीन है...दाद कबूल करें.

    नीरज

    ReplyDelete
  11. हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूंछने लगे |

    स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे |
    bahut hi badhiyaa

    ReplyDelete
  12. गाँव के पहरुए ,
    गाँव लूटने लगे |

    उम्दा अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  13. लाजवाब....
    बेहतरीन रचना सुरेन्द्र भाई....
    सादर...

    ReplyDelete
  14. आज के हालत की सच्चाई बयान कर दी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  15. आपके दिए झटकों में
    हम तो झुलने लगे

    इस खूबसूरत प्रस्तुति के लिए
    बहुत खूब , बहुत खूब कहने लगे.

    एक पोस्ट लिखी कर अब
    आपका इंतजार करने लगे.

    जरा कंधा थपथपा दीजियेगा झंझट भाई.

    ReplyDelete
  16. स्वार्थ के सिंधु में
    हँस डूबने लगे ... सरीक कहा है ..अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  17. हम स्वयं का पता,
    ख़ुद से पूछने लगे।

    छोटी बहर में बहुत ही अच्छी ग़ज़ल कही है आपने। बधाई।

    ReplyDelete
  18. सच कहा कि निश्चित लोग खोजने लगेंगे

    ReplyDelete
  19. उसने सच कह दिया ,
    लोग ढूँढने लगे |
    गाँव के पहरुए ,
    गाँव लूटने लगे |

    छोटे बहर की उम्दा ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  20. हम तो आदर्श को ,
    सिर्फ पूजने लगे |

    waah!!!...kya khub farmaya!!!!

    hum sirf aadarsho ko pujna aur unki charcha karna jaante hain....aadarshon ko apnana nahi.....

    ReplyDelete
  21. एक एक लफ्ज सच है आज के परिप्रेक्ष्य मे।

    ReplyDelete
  22. gaanv ke pehruve gaanv lootne lage .

    ReplyDelete
  23. गाँव के पहरुवे ,गाँव लूटने लगे .छोटी बहर की सार्थक ग़ज़ल ,जीवन का प्रतिबिम्ब उभारती ,विद्रूपों को बे नकाब करती .बधाई .

    ReplyDelete
  24. क्रान्ति का घोष था ,
    लोग ऊँघने लगे |

    छोटी बहर में गई गई उम्दा ग़ज़ल के लिए बधाई बधाई स्वीकार करें सुरेन्द्र भाई|

    ReplyDelete
  25. हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूंछने लगे |

    hello Surendra ji
    aapki kavita puri bahot achchi hai par ye do line mind-blowing hain.........Surendre ji aapbhi ek baar mere blog ka anusaran kare.......meri blog site hai.......www.shikhakhare.blogspot.com

    ReplyDelete
  26. आपके झटके के सिन्धु में सब डूबने लगे.बहुत बढ़िया.

    ReplyDelete
  27. स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे | बहुत ही सुन्दर और चुटीली कविता !

    ReplyDelete
  28. सुरेन्द्र जी घोर कलयुग आ गया -सब उल्टा पुल्टा -हंस चुनेगा दाना पानी कौवा मोती खायेगा
    देखिये तो ! मधुप-
    स्वर्ण सूंघने लगे |

    उसने सच कह दिया ,
    लोग ढूँढने लगे |

    गाँव के पहरुए ,
    गाँव लूटने लगे |

    ReplyDelete
  29. bahut umda kavita...regrds era

    ReplyDelete
  30. बहुत भावपूर्ण अभिव्यक्ति..
    बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  31. देखिये तो ! मधुप-
    स्वर्ण सूंघने लगे | सुंदर पंक्तियाँ...बधाई.
    द्वार पाल द्वार पर
    हाय ऊँघने लगे.
    कोयलें स्तब्ध हैं
    काग कूकने लगे.
    शब्द-भेदी बाण भी
    लक्ष्य चूकने लगे.

    ReplyDelete
  32. छोटी बहर की बेहतरीन बेहतरीन बेहतरीन ग़ज़ल.बधाई आपको.

    ReplyDelete
  33. क्रान्ति का घोष था ,
    लोग ऊँघने लगे

    उसने सच कह दिया ,
    लोग ढूँढने लगे

    स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे

    गांव के पहरुये
    गाँव लूटने लगे
    सभी शेर इतने अच्छे हैं कि समझ नही पा रही किसे किस की तारीफ करूँ। बेहतरीन गज़ल के लिये बधाई।

    ReplyDelete
  34. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ ज़बरदस्त रचना! बधाई!

    ReplyDelete
  35. स्वार्थ के सिंधु में
    हँस डूबने लगे sachchayee ko kholkar rakh di aapne.....bahut achcha kiya.

    ReplyDelete
  36. बहुत खूबसूरत रचना, सुन्दर रचना पढ़वाने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  37. शब्द थोड़े,भाव पूरे।

    ReplyDelete
  38. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  39. बहुत लाजवाब ... सार्थक ... सटीक ... कुछ शब्दों में लंबी बात ... गहरी बात ...

    ReplyDelete
  40. वाह....छोटी बहर की क्या सुदर गीतमयी गज़ल है.....अति सुन्दर....

    ReplyDelete
  41. हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूछने लगे ।

    बहुत बढ़िया शेर....वाह।
    छोटी बहर की यह ग़ज़ल अच्छी लगी, शिल्प और भाव, दोनों बेहतरीन।

    ReplyDelete
  42. स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे |

    शूल ने छू लिया ,
    ज़ख्म पूरने लगे
    बहुत ही अच्‍छा लिखा है ।

    ReplyDelete
  43. हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूछने लगे

    वाह,
    आभार,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  44. गाँव के पहरुए ,
    गाँव लूटने लगे |

    हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूंछने लगे |

    बहुत ही सटीक और उम्दा लिखा है...

    ReplyDelete
  45. हम स्वयं का पता ,
    खुद से पूंछने लगे |

    स्वार्थ के सिन्धु में ,
    हंस डूबने लगे

    मेरे प्रिय भाई सुरेन्द्र सिंह जी ...जब भी आप लिखते हैं मौलिकता होती है उसमे ..जिस विधा में भी लिखें छंद , ग़ज़ल, रुबाई, क्षणिका, सब कुछ कभी आपने सामाजिक दायित्वों से नही डिगते ..
    बधाई हो भैया जी !!

    ReplyDelete
  46. छोटे बहर की शानदार गज़ल के लिए बहुत बधाई।
    यह शेर तो अनूठा मुहावरा गढ़ता है...
    देखिये तो ! मधुप-
    स्वर्ण सूंघने लगे |
    ...वाह!

    ReplyDelete
  47. आप का बलाँग मूझे पढ कर आच्चछा लगा , मैं बी एक बलाँग खोली हू
    लिकं हैhttp://sarapyar.blogspot.com/

    मै नइ हु आप सब का सपोट chheya

    ReplyDelete
  48. usne sach keh diya,log dhondhane lage.Bhai ji apki rachna kuch logon par prahar karti hai. is samay isi rachana ki jaroorat hai. JAI MATAJI.

    ReplyDelete
  49. hum swyam ka pata khud se puchne laga.....bahut khub......
    jai hind jai bharat

    ReplyDelete