Tuesday, September 7, 2010

सबके लिए बराबर होती है फटकार कबीरा की

राम रहीम आस्थाओं के पूजनीय हैं , प्यारे हैं |
इनको  लेकर   नफरत   फैलाने  वाले   बेचारे  हैं |
प्रेम जहाँ रसखान का वहीँ प्रीति मिलेगी मीरा की |
सबके लिए बराबर  होती है   फटकार   कबीरा की |
जिनकी वाणी से बहती समता की अमृतधार नहीं |
उन्हें समाजसुधारक बनने का कोई अधिकार नहीं|

1 comment: