Tuesday, September 28, 2010

आदमी

                       हँसता-रोता हुआ   आदमी |
                      खुद  को ढोता हुआ आदमी |
                      आसमान तक चढ़कर के भी '
                      कितना छोटा हुआ  आदमी |
                      दूर से चमके सोने सा , पर-  
                      सिक्का खोटा हुआ आदमी |
                      औरों के हिस्से खा-खाकर ,      
                      कितना मोटा हुआ आदमी |
                      जाग रहा है फिर भी लगता -
                      जैसे  सोता हुआ   आदमी  |    
                      चिकना है  पर बिन पेंदे का ,
                      जैसे  लोटा हुआ   आदमी | 

2 comments:

  1. बहुत रोचक और सुन्दर अंदाज में लिखी गई रचना .....आभार

    ReplyDelete
  2. वाह पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete