Friday, February 4, 2011

...बसंत अगवानी कौन करेगा ?

बौरी हुई आम डालियों पे  उल्लुओं  का डेरा ,
कोकिला  ने   कुहुक  लगाई   कौन   सुनेगा ?
दाने-दाने को  जहाँ  तरस रही   जिन्दगी है ,
मालयी  समीर  भला    पेट    कैसे    भरेगा  ?
छाया  पतझार   जहाँ   बारहों  महीने    वहाँ ,
आइके    बसंत   एक बार    काव     करेगा  ?
चीथड़ों  में लिपटी   सिसकती   बसंती, कहो -
गाँव   में   बसंत-अगवानी    कौन   करेगा ?

22 comments:

  1. सुन्दर ! उल्लुओं का डेरा है....

    ReplyDelete
  2. कोकिला की कुहुक ज़माना जरुर सुनेगा !

    ReplyDelete
  3. चिथड़ों में लिपटी सिसकती बसंती, अब -
    गाँव में बसंत-अगवानी कौन करेगा !

    झंझट जी,
    आपकी कविता के सारे प्रश्न आज हमारे सामने मुह बाए खड़े हैं !
    काश! इनके उत्तर मिल पाते !

    ReplyDelete
  4. चिथड़ों में लिपटी सिसकती बसंती, अब -
    गाँव में बसंत-अगवानी कौन करेगा ?


    Jhanjhat ji bahut acchi rachna .....ek karaa vyangya.........

    ReplyDelete
  5. बसंत का सुन्दर स्वागत.

    ReplyDelete
  6. प्रधान जी या अगर प्रधानिन हैं तो उनके हसबैंड ..! यही कर लेंगे अगवानी सुरेन्द्र भाई ...आप क्या कम समझते हो हमरे गाँव को का ...अगर कुछ दिक्कत हुई तो ...बी डी सी ..मेंबर हैं ग्राम सेवक हैं अपने लेखपाल जी भी आ जायेंगे ...और अगर आपका बसंत ...इसे भी बड़ा हुआ तो ब्लाक प्रमुख जी और 'बी डी ओ' साहेब ...तो सुरेश कलमाड़ी से भी अच्छा कर लेते हैं ....'वो' काम स्वागत वाला !.....
    आपने दुखती रग दबा दी सुरेन्द्र जी ...मुझे अपना गाँव और उसके दलाल याद आ गए !!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर ! उल्लुओं का डेरा है....

    कोकिला की कुहुक ज़माना जरुर सुनेगा

    ReplyDelete
  8. अनुत्तरित प्रश्न !
    बेहतरीन काव्य !

    ReplyDelete
  9. वास्तविकताओं से अवगत करवा दिया ....इनका कोई जबाब नहीं ...चलो देखते हैं

    ReplyDelete
  10. बसंती और बसंत के माध्यम से बहुत कुछ कह दिया आपने.

    ReplyDelete
  11. बसंत तो बसंत है इसके आते ही लोग स्वतः ही इसकी आगवानी करते है।

    ReplyDelete
  12. आपके प्रश्न का उतार कौन देगा?

    ReplyDelete
  13. झंझट जी,
    आपने छंद के माध्यम से आधुनिक माहौल
    का बड़ा सटीक चित्र प्रस्तुत किया है। बधाई!
    इसे पढ़ कर पढ़ कर मुझे अपना एक दोहा
    याद आ गया।
    ==============================
    शहरीपन ज्यों-ज्यों बढ़ा, हुआ वनों का अंत।
    गमलों में बैठा मिला, सिकुड़ा हुआ बसंत॥
    सद्भावी - डॉ० डंडा लखनवी

    ReplyDelete
  14. बहुत खुबसूरत रचना !

    ReplyDelete
  15. चिथड़ों में लिपटी सिसकती बसंती, कहो -
    गाँव में बसंत-अगवानी कौन करेगा ?

    सच कहा ... लाजवाब व्यंग लिखा है ... इस समाज की सही दुर्दशा का वर्णन ...

    ReplyDelete
  16. बसंत का यह रूप ,बहुत कम लोग दिखा पाते हैं...

    साधुवाद आपका...

    ReplyDelete
  17. basant ka swagat badti hui arabpatiyon ki bheed hi kar legi kyonki gareeb ke jeevan me to patjhad hi patjhad hai .bahut yatharthvadi rachna .badhai .

    ReplyDelete
  18. चिथड़ों में लिपटी सिसकती बसंती, समाज की दुर्दशा का वर्णन ...,

    ReplyDelete
  19. बहुत ही बढ़िया रचना.
    प्रासंगिक.
    आपकी कलम को शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  20. बहुत खुबसूरत रचना
    चिथड़ों में लिपटी सिसकती बसंती, समाज की दुर्दशा

    ReplyDelete
  21. सिर्क एक शब्द... वाह...

    ReplyDelete