Saturday, May 21, 2011

रेडियो रोता है

उसकी बातें क्यूँ  करते हो ?
वो  तो भारत का नेता है  !
एम.पी. है , एम.एल.ए. है 
मिनिस्टर है , कुछ भी है ..
सेन्ट्रल लाटरी का बम्पर विजेता है |


तुमने जिताया है , संसद पहुँचाया है ,
राजधानी दिखलाया है ..
उसने भी इलेक्सन में लाखों उड़ाया है ..
क्या बुरा ?
आज वह तुम्हीं से लेता है...भारत का नेता है !

रोना  है रोते रहो,
जागो या सोते रहो ..
वह तो होशियार है -
जगता है... देश सोता है !

उसके रोने का ढंग भी अजीब है-
कभी चम्बल, कभी बेहमई
कभी भागलपुर , कभी पंजाब
कभी असम
तो कभी कश्मीर में रोता है ..

झंझट ! तुम मरो या जियो
कोई परवाह नहीं
मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है |   


55 comments:

  1. कटाक्ष करने में सफल रचना |

    ReplyDelete
  2. such ko samne lane ka khubsurat kosish... very nice rachna...

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर कविता भाई सुरेन्दजी बधाई

    ReplyDelete
  4. उसके रोने का ढंग भी अजीब है-
    कभी चम्बल, कभी बेहमई
    कभी भागलपुर , कभी पंजाब
    कभी असम
    तो कभी कश्मीर में रोता है ..
    waah... bahut khoob likha hai

    ReplyDelete
  5. उसकी बातें क्यूँ करते हो ?
    वो तो भारत का नेता है !
    एम.पी. है , एम.एल.ए. है
    मिनिस्टर है , कुछ भी है ..
    सेन्ट्रल लाटरी का बम्पर विजेता है |
    ओह! क्या बात कही है और बेहतरीन बिम्ब प्रयोग् बहुत सुन्दर रचना दिल को छू गयी।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर व्यंग्य्।

    ReplyDelete
  7. बढ़िया कहा है. रेडियो रोता भी हैं तो उसी की याद में. किसी और के बारे में रो कर तो देखे.

    ReplyDelete
  8. झंझट ! तुम मरो या जियो
    कोई परवाह नहीं
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है |

    क्या बात कही है आपने।

    ReplyDelete
  9. तुमने जिताया है , संसद पहुँचाया है ,
    राजधानी दिखलाया है ..
    उसने भी इलेक्सन में लाखों उड़ाया है ..
    क्या बुरा ?
    आज वह तुम्हीं से लेता है...भारत का नेता है !

    सच कह रही है, आपकी रचना ..
    जी हाँ यही तो होता है....
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है..

    ReplyDelete
  10. झंझट ! तुम मरो या जियो
    कोई परवाह नहीं
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है |
    jhnjht ji aapke jhnjht bade niraale haae >

    ReplyDelete
  11. BDHIYA VAYANG KIYA SIR JI. .
    JAI HIND JAI BHARAT

    ReplyDelete
  12. बहुत सटीक व्यंग। अंतिम पंक्ति बहुत जबरदस्त लगी।

    ReplyDelete
  13. जोरदार और धारदार व्यंग्य . बधाई और आभार .

    ReplyDelete
  14. लाख टके की बात कह दी आपने...

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर व्यंग्य् सुरेन्द भाई बधाई...

    ReplyDelete
  16. कटाक्ष करने में सफल रचना|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  17. आपने आखिर इस रेडियो को रुला ही दिया ! बेचारा !

    ReplyDelete
  18. रोना है रोते रहो,
    जागो या सोते रहो ..
    वह तो होशियार है -
    जगता है... देश सोता है

    Bilkul sahi..... Umda kataksh...

    ReplyDelete
  19. झंझट ! तुम मरो या जियो
    कोई परवाह नहीं
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है ।

    वाह, झंझट जी ,वाह, बहुत खूब।
    क्या धारदार व्यंग्य है...
    केवल रेडियो ही रोता है, जनता चैन की सांस लेती है।

    ReplyDelete
  20. जब वो मरता रेडिओ रोता है ...सटीक व्यंग्य ...भारत का नेता है ...सेक्युँल्र नेता है ....

    ReplyDelete
  21. रोना है रोते रहो,
    जागो या सोते रहो ..
    वह तो होशियार है -
    जगता है... देश सोता है !

    बहुत ही अच्छा लिखा है

    ReplyDelete
  22. बहुत सटीक व्यंग ,बधाई ...............

    ReplyDelete
  23. ab to ye vyang se bhi nahi marte . pahle ke neta to aksar vyang se hi mar jaya karte the.

    ReplyDelete
  24. झंझट ! तुम मरो या जियो
    कोई परवाह नहीं
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है |

    बहुत सटीक व्यंग..लाज़वाब प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सुन्दर और शानदार कविता! सटीक व्यंग्य!

    ReplyDelete
  26. बहुत बहुत सही कहा....

    आम और ख़ास का फर्क बड़ा बखूबी बताया आपने...

    ReplyDelete
  27. सही कहा बन्धु|

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन व्यंग्य

    ReplyDelete
  29. सुरेन्दजी
    बहुत सुन्दर कविता ... बधाई

    ReplyDelete
  30. यही तो आज का राजा है ... जो भी करे उसको क्या फ़र्क पढ़ता है ... अच्छा व्यंग है ...

    ReplyDelete
  31. आद.झंझट जी,

    एकदम सटीक और करारा व्यंग्य !
    इतनी सुन्दर रचना के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें !
    आभार !

    ReplyDelete
  32. तुमने जिताया है , संसद पहुँचाया है ,
    राजधानी दिखलाया है ..
    उसने भी इलेक्सन में लाखों उड़ाया है ..
    क्या बुरा ?
    आज वह तुम्हीं से लेता है...भारत का नेता है !......................
    मुझे लगता है उपरोक्त चुनिन्दा पंक्तियाँ ही सम्पूर्ण रचना की जान है ,अतेव उपरोक्त पंक्तियों को लाक किया जाय....
    आभार उपरोक्त रचना हेतु ..........

    ReplyDelete
  33. संसद में बहुमत तो इन्ही प्रकार के नेताओ का है.

    ReplyDelete
  34. उसके रोने का ढंग भी अजीब है-
    कभी चम्बल, कभी बेहमई
    कभी भागलपुर , कभी पंजाब
    कभी असम
    तो कभी कश्मीर में रोता है ..

    ...insaniyat ke dusamano ke liye kisi ko to rona hi padta hai...jo insaan hoga use fark to padta hi hai...
    bahut chintanprad rachna..aabhar

    ReplyDelete
  35. जोरदार और धारदार व्यंग्य| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  36. बढ़िया व्यंग्य ....!
    शुभकामनाये स्वीकारें ....

    ReplyDelete
  37. धारदार व्यंग्य . बधाई और आभार

    ReplyDelete
  38. सुंदर और सटीक व्यंग किया आपने.....अति सुंदर सर !!

    ReplyDelete
  39. वाह वाह क्या खूब लिखा आपने पर हम इसे पढ़कर फ़िर सोने जा रहे हैं भाई क्या करे हिंदुस्तानी जो ठहरे

    ReplyDelete
  40. मजेदार व्यंग्य रचना

    ReplyDelete
  41. रेडियो रोने के लिए मजबूर है |

    ReplyDelete
  42. उसकी बातें क्यूँ करते हो ?
    वो तो भारत का नेता है !
    एम.पी. है , एम.एल.ए. है
    मिनिस्टर है , कुछ भी है ..
    सेन्ट्रल लाटरी का बम्पर विजेता है |
    saty baya kartee vyangatmak lekhan asardaar hai.

    ReplyDelete
  43. वो नेता है वोट लेता है और दर्द देता है ।
    बहुत ही अच्छा व्यंग्य है ।

    ReplyDelete
  44. झंझट ! तुम मरो या जियो
    कोई परवाह नहीं
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है |

    बहुत सुंदर कटाक्ष आज के माहौल पर और आजकी व्यवस्था पर.
    सुंदर कविता के लिए असीम बधाइयाँ.

    ReplyDelete
  45. ऐसे मारो तीर कि बिंधने वाला रह जाये मौन,
    पूछ न पाए प्रश्न कि तीर चलाने वाला कौन.
    प्रथम आगमन में ही कायल हो गए

    ReplyDelete
  46. आप सभी विद्वान् /विदुषी रचनाकारों /लेखकों /लेखिकाओं ने मेरे ब्लाग पर आकर मेरी रचना को पढ़ा और अपनी अनमोल टिप्पड़ियों से मेरा उत्साह वर्धन किया , इसके लिए मैं ह्रदय से आप सबका आभारी हूँ | विश्वाश है कि ऐसे ही स्नेह बनाए रखेंगे |

    ReplyDelete
  47. झंझट ! तुम मरो या जियो
    कोई परवाह नहीं
    मगर जब वो मरता है...तो रेडियो रोता है |

    झंझट भाई रोने वालो में रेडियो ही नहीं,टीवी अखबार और नेता भी रोतें हैं.फिर उनके रोने पर हमको भी तो रोना पड़ता है ना.

    आपके कटाक्ष का भी जबाब नहीं.

    इस बार मेरे ब्लॉग पर आने में देरी क्यूँ ?

    ReplyDelete
  48. usne bhi election me lakhon udaya hai.kya bura hai aj o tumhi se leta hai.Bharat ka neta hai.

    ReplyDelete
  49. bahut acchi rachna hai.is samay is tarah ki rachna post kiye bahut achha kiye .jai hind.

    ReplyDelete
  50. मामला गंभीर है ..

    ReplyDelete