Monday, May 30, 2011

राधिका और बाँसुरी

साँस-साँस में बसी थीं,दोनों जग से निराली '
इनके सिवा  न कृष्ण  की  थी कोई साँस री |
अधरों  से खेलती थीं , साथ साथ  रहती थीं ,
सारे जग  की बुझातीं, आत्मा  की प्यास री |
नाचते थे धुनि  सुनि , नारद- विरंचि- शिव ,
प्रकृति भी , गोपियों की श्वाँस प्रति श्वाँस री |
वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
बाँसुरी थी राधिका  कि  राधिका थीं बाँसुरी | 

38 comments:

  1. बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |

    वाह क्या भाव भरे हैं…………रोम रोम पुलकित हो गया।

    ReplyDelete
  2. वाह...वाह...वाह...'बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी.' बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति. इतना बढ़िया सृजन और इस छंद में बुना हुआ. रीतिकाल के कई कवियों की रचना के समकक्ष.

    ReplyDelete
  3. बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी....
    बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति.........
    इतना सुन्दर शब्द संयोजन देखकर मन खुश हो गया...
    बहुत सुन्दर........

    ReplyDelete
  4. वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
    बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी | ... radha hi to thi baansuri

    ReplyDelete
  5. वाह सुरेन्द्र जी , गजब की अभिव्यक्ति ! बहरीन भाव और शिल्प । मन तृप्त हुआ।

    ReplyDelete
  6. वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
    बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |

    वाह सुरेंद्र भाई, आनंद आ गया| घनाक्षरी छन्द माहौल को सुगंधित करने लगे हैं| जय हो|

    ReplyDelete
  7. जय हो, जय हो झंझट भाई की जय हो.
    आपकी सुन्दर अभिव्यक्ति के बारे में अब क्या कहूँ?
    दिल छीन ले गई यह तो.

    ReplyDelete
  8. इतना सुन्दर शब्द संयोजन देखकर मन खुश हो गया...
    बहुत सुन्दर......

    ReplyDelete
  9. बांसुरी थी राधिका की राधिका थी बांसुरी ....बहुर अभिनव प्रयोग ...मानिनी राधा को मुग्धा ...कृष्ण को राधामय बनाता हुआ .

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति|धन्यवाद|

    ReplyDelete
  11. बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी
    ..बहुत सुंदर।

    ReplyDelete
  12. बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |

    बहुत ही सुंदर....

    ReplyDelete
  13. बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |
    बहुत ही सुंदर भाव और अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  14. बाँसुरी राधा लगे या राधिका लगे बाँसुरी
    ग्वाल बालों संग देखो गोपियाँ हैं बावरी.
    भाव विभोर कर दिया सुरेन्द्र जी !!!!!

    ReplyDelete
  15. बाँसुरी राधा लगे या राधिका लगे बाँसुरी

    अद्भुत तारतम्य स्थापित कर दिया आपने इन शब्दों के माध्यम से ....आपका आभार

    ReplyDelete
  16. वाह वाह!! क्या बात है...

    बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |

    झूम गये!!

    ReplyDelete
  17. कड़-कड़ में श्याम ....हम नादान भूल बैठे

    ReplyDelete
  18. कृष्ण व राधिका के मधुर संबंध को आपने बासुरी के मिठाश के साथ बखुबी व्यक्त किया अनुपम रचना !

    ReplyDelete
  19. नमामि राधे, नमामि कृष्णम...
    राधा-कृष्ण की युगल मूर्ती की भांति
    बड़ी प्यारी सी पोस्ट सुरेन्द्र भाई....
    सादर...

    ReplyDelete
  20. बहुत ही अच्छा पोस्ट है सर आपका !मेरे ब्लॉग पर जरुर आए ! आप दिन शुब हो !
    Download Free Music + Lyrics - BollyWood Blaast
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर काव्य रचना और बेहतरीन भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  22. वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
    बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |

    क्या बात है.बहुत प्यारा लिखा है

    ReplyDelete
  23. वाह रे कन्हैया ! बहुत ही सुंदर ...

    ReplyDelete
  24. वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
    बांसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बांसुरी |

    घनाक्षरी छन्द के माध्यम से शानदार सौन्दर्य उत्पन्न किया है।
    मनोरम प्रस्तुति!!

    ReplyDelete
  25. साँस-साँस में बसी थीं,दोनों जग से निराली '
    इनके सिवा न कृष्ण की थी कोई साँस री |
    अधरों से खेलती थीं , साथ साथ रहती थीं ,
    सारे जग की बुझातीं, आत्मा की प्यास री |

    बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  26. आप भी सादर आमंत्रित हैं
    एक्यूप्रेशर चिकित्सा पद्धति का परिचय
    ये मेरी पहली पोस्ट है
    उम्मीद है पसंद आयेंगी

    ReplyDelete
  27. रोम रोम में रोमांच भर आया पढ़कर...
    मन भावुक पुलकित हो गया...
    किन शब्दों में प्रशंसा करूँ...?????

    ReplyDelete
  28. हरित बांस की बांसुरी मुरली ली लुकाय ....की याद आगे आपकी रचना पढके .
    ताज़ा रचना प्रतीक्षित है .

    ReplyDelete
  29. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  30. वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
    बाँसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बाँसुरी |

    बेहद शानदार लाजवाब .....

    ReplyDelete
  31. प्रिय सुरेन्द्र सिंह जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    मनहरण कवित्त का शानदार नमूना !
    आप वार्णिक छंदों में निष्णात हैं ...

    वाह रे कन्हैया ! कभी जान नहीं पाया कोई ,
    बाँसुरी थी राधिका कि राधिका थीं बाँसुरी |


    छंद जब स्वयं अपने विशुद्ध स्वरूप में उपस्थित हों तो आनंद की उत्पत्ति होती है ...
    और इसके निमित्त आप हैं ...
    बहुत बहुत मंगलकामनाएं!
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  32. बहुत सुंदर भावाभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  33. मनमोहन कान्हा विनती करू दिन रैन

    http://shayaridays.blogspot.com

    ReplyDelete
  34. बिल्कुल अलग अन्दाज़ की...सुन्दर शब्द संयोजन

    ReplyDelete