Tuesday, August 17, 2010

ग़ज़ल

जीत कहूं या हार जिंदगी |
है कितनी दुश्वार ज़िन्दगी |
कभी कभी लगता था जैसे
है फूलों का हार ज़िन्दगी |
घूँट  हलाहल  के कह दूं , या-
कहूं सुधा की धार ज़िन्दगी |
ऊपर से तो खिली खिली ,पर -
भीतर  से पतझार  ज़िन्दगी |
कदम कदम पर कर बैठी है
संघर्षों से   प्यार ज़िन्दगी |
कभी वक़्त की शहजादी तो
कभी वक़्त की मार ज़िन्दगी |
मुड़ मुड़ कर करती रहती है
जीने   से  इन्कार  ज़िन्दगी |
जीना क्या मरना क्या उसका
मिली जिसे बीमार ज़िन्दगी |
शायद  इससे अच्छी  होगी
जीवन के  उस  पार ज़िन्दगी |

5 comments:

  1. वाह वाह वाह
    जिंदगी का पूरा हाल सुना दिया।
    मजेदार और रोचक लगा
    http://chokhat.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

    किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
    हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

    ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

    आप भी सादर आमंत्रित हैं,
    http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
    सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
    प्रसार में अपना योगदान दें ।
    यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

    हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  3. पेश की गई ग़ज़ल अपने मापदंड पर पूरी तरह खरी है...
    कदम कदम पर कर बैठी है
    संघर्षों से प्यार ज़िन्दगी |
    वाह...बहुत खूब
    कभी वक़्त की शहजादी तो
    कभी वक़्त की मार ज़िन्दगी
    सच बयान किया है आपने.

    ReplyDelete
  4. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete