Monday, January 10, 2011

कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपना देश ?

कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपना देश ?
      जुर्म दहेजी प्रथा कागजी बंधन दिया बनाय |
      अख़बारों की सुर्खी देखो   बहुएँ  रहे जलाय |
लाखों में दूल्हों की बिक्री  ऊपर से  परहेज ?
कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपना देश ?
     नित्य निमंत्रण बाँट-बाँट वे करवाते हैं भोज |
     घर के बच्चे भूँखों मरते मना रहे हम मौज |
घर की शांति खोजने जाते हैं हम  रोज विदेश |
कैसे अपना गाँव बचे   अब    कैसे   अपना देश ?
     मद्यपान विषपान सरीखा  कहता  एक   विभाग |
     नित्य नयी ठेकी शराब की फ़ैल रही है आग |
आग लगाकर कुँवा खुदाते हैं  काले अंग्रेज |
कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपना देश ?
     बालवर्ष में मरा भूख से सुरसतिया का लाल |
     युवावर्ष में कटा रेल पर पढ़ा-लिखा धनलाल |
महिलावर्ष नदी में कूदी धनिया बिखरे केश |
कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपना देश ?
     इक्कीसवीं सदी का हल्ला- उन्नति करे मशीन |
     शाही शिक्षानीति  -  अमीरी  उच्चासन   आसीन |
खड़ी गरीबी गाँव निगलती धरे भयंकर भेष |
कैसे अपना  गाँव बचे  अब  कैसे  अपने  देश ?

26 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना
    गहरा चिंतन

    ReplyDelete
  2. ... bahut sundar ... shaandaar-jaandaar !!

    ReplyDelete
  3. .

    खड़ी गरीबी गाँव निगलती धरे भयंकर भेष |
    कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपने देश ...

    जिस तरह से लोग असंवेदनशील हो रहे हैं , लगता तो नहीं कोई उम्मीद है। सभी अपना हित देखते हैं। परहित और देश से सरोकार बहुत कम लोगों को है।

    .

    ReplyDelete
  4. झंझट जी, तमाम तरह के विद्वेष, पतन का कारण पैसे के पीछे अंधे होकर दौडना है, आपने अपनी इस शसक्त रचना से गंभीर विषय उठाया है..... अत्यंत ही सुन्दर रचना के लिए आपका साधुवाद.

    ReplyDelete
  5. बहुत बेहतरीन ढंग से एक एक बात उठाई है समाज का जीता जगता चेहरा साफ दिख रहा है

    ReplyDelete
  6. परहित और देश से सरोकार बहुत कम लोगों को है। आपने अपनी इस शसक्त रचना से गंभीर विषय उठाया है धन्यवाद|

    ReplyDelete
  7. aag lagaakar kunwan khodne ki bimaari abhi gayi nahi hai ...yahi to desh aur hamaare samaaz ka durbhaagy hai ...

    ReplyDelete
  8. सुरेन्द्र जी इस भौतिकवादी युग में किसे पड़ी है देश व समाज की। कौन ऐसा सोचता है। सब अपनी अपनी डफली बजाने में लगे हुए है। मैं घर में जब भी ऐसी बातें करता हुॅं तो कहा जाता है कि तुम्हारे सही होने से कुछ नही बदलने वाला। दुनिया जैसे चलती है वैसे ही चलती रहेगी।

    ReplyDelete
  9. ....................................
    "तुमने मेरी पत्नी की बेइज्जती की थी" नयी पोस्ट पर आपकी टिपण्णी की प्रतीक्षा रहेगी. "arvindjangid.blogspot.com"
    ....................................

    ReplyDelete
  10. तमाम विसंगतियों के बीच-
    कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपने देश ?
    अत्यन्त प्रभावकारी रचना .

    ReplyDelete
  11. खड़ी गरीबी गाँव निगलती धरे भयंकर भेष |
    कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपने देश .
    bahut sundar badhai

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर , मर्मस्पर्शी और यथार्थ से ओत-प्रोत रचना बधाई।

    ReplyDelete
  13. सुरेन्द्र सिंह " झंझट जी
    नमस्कार !
    ......एक अच्छी और सामयिक प्रस्तुति ! बधाई

    ReplyDelete
  14. "खड़ी गरीबी गाँव निगलती धरे भयंकर भेष |
    कैसे अपना गाँव बचे अब कैसे अपने देश ?"

    बहुत सुन्दर रचना
    समाज का चेहरा साफ दिख रहा है

    बधाई

    ReplyDelete
  15. हर दोहे में आज के दौर की टूटती मान्यतायों का दर्द छुपा है !
    बहुत सुन्दर लिखा है आपने !
    _ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  16. जीवन के इन्हीं दुहरावों के कारण कहा गयाः
    हीरा जनम अमोल था,कौड़ी बदले जाए.....

    ReplyDelete
  17. गीत सुन्दर है, बहुत सुन्दर है.

    ReplyDelete
  18. very well written Surendra ji...bahut khoob

    ReplyDelete
  19. विचारणीय पोस्ट...
    पढने वाले को चिंताग्रस्त कर दिया आपने...

    ReplyDelete
  20. bahut achchi rachna hai aisi hi aur rachnaye likhe

    ReplyDelete
  21. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    ReplyDelete
  22. vyangya se paripurn....is padhya ke lie aapko hardik badhaayi....balle-balle...!

    ReplyDelete
  23. आदत.......मुस्कुराने पर
    किस बात का गुनाहगार हूँ मैं....संजय भास्कर
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  24. mazaa aa gayaa jhanjhat bhaai.....kavita jo aapne avdhi kee sunaayi....!!

    ReplyDelete