Saturday, January 1, 2011

आओ हे नव वर्ष........

आओ  हे  नव वर्ष   तुम्हारा  स्वागत है |
घर-घर  भर दो हर्ष तुम्हारा स्वागत है  |
      आये कितने  वर्ष  और  फिर चले गए |
      किन्तु सदा से बस गरीब ही छले गए |
      महके बहुत गुलाब यहाँ के उपवन में ,
      पर  मुरझाये  फूल   पाँव  के तले  गए |
आहत है गत वर्ष तुम्हारा स्वागत है |
आओ हे नव वर्ष  तुम्हारा स्वागत है |
        मनुज, मनुज के  लिए न खाई खोदे ,
        मनुज, मनुज के लिए  न काँटे  बोये |
        फिर से कृष्ण  सुदामा के चरणों को ,
        नयनों के जल से प्रेम थाल में धोएं  |
जीवन हो उत्सर्ग तुम्हारा स्वागत है |
आओ हे नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है |



 

19 comments:

  1. खुशियों भरा हो साल नया आपके लिए

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ..सुन्दर रचना
    नव वर्ष की शुभकामनाये

    ReplyDelete
  4. नव वर्ष की सुन्दर प्रस्तुति,

    सुरेन्द्र सिंह जी, नव वर्ष आपके जीवन को नए आयाम दे !

    साधुवाद

    ReplyDelete
  5. नए साल की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. आओ हे नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है |

    खुबसूरत रचना. आभार...

    ReplyDelete
  7. सुन्दर कविता नव वर्ष के स्वागत में ! आप को नव वर्ष मुबारक !

    ReplyDelete
  8. आहत है गत वर्ष तुम्हारा स्वागत है |
    आओ हे नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है |
    ... bahut sundar !!

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर रचना……………नए साल की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन रचना। बधाई।
    आपको भी नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं !
    यह नव वर्ष आपके जीवन में सुख-समृद्धि और सफलता प्रदान करे ।

    ReplyDelete
  11. नव वर्ष के आरंभ में मंगलकामनाओं से संयुक्त सुंदर रचना।
    आपकी, हमारी, सबकी शुभ मनोकामनाएं पूर्ण हों।

    ReplyDelete
  12. मनुज, मनुज के लिए न खाई खोदे ,
    मनुज, मनुज के लिए न काँटे बोये |
    र से कृष्ण सुदामा के चरणों को ,
    नयनों के जल से प्रेम थाल में धोएं ...

    आमीन ...सार्थक सन्देश देती आपकी रचना ,..... .
    आपको और आपके पूरे परिवार को नव वश मंगलमय हो ..

    ReplyDelete
  13. आदरणीय,
    मुकम्मल रिदम मे इक़ बेहद सार्थक रचना.
    -
    सपरिवार आपको नव वर्ष की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं.
    नव वर्ष २०११ और एक प्रार्थना

    ReplyDelete
  14. सुन्दर भावनाओं से सराबोर स्वागत- शब्द-पुष्प नव वर्ष को चन्दन सा सुवासित कर रहे हैं !
    गीत में प्रवाह और माधुर्य दोनों हैं !
    आपको सपरिवार नव वर्ष की मंगलकामनाएं!
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    ReplyDelete
  15. Nice post .
    ऐतराज़ क्यों ?
    बड़े अच्छे हों तो बच्चे भी अच्छे ही रहते हैं .
    आज कल तो बड़े ऐसे भी हैं कि 'माँ और बहन' कहो तो भी ऐतराज़ कर डालें.
    ऐसे लोगों को टोकना निहायत ज़रूरी है . गलती पर खामोश रहना या पक्षपात करना
    ही बड़े लोगों को बच्चों से भी गया गुज़रा बनती है .
    रचना जी को मां कहने पर
    और
    दिव्या जी को बहन कहने पर
    ऐतराज़ क्यों ?
    अगर आप यह नहीं जानना चाहते तो कृप्या निम्न लिंक पर न जाएं।
    http://ahsaskiparten.blogspot.com/2010/12/patriot.html

    ReplyDelete
  16. आये कितने वर्ष और फिर चले गए |
    किन्तु सदा से बस गरीब ही छले गए |
    महके बहुत गुलाब यहाँ के उपवन में ,
    पर मुरझाये फूल पाँव के तले गए


    अति सुन्दर।

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन गीत. नव वर्ष पर पुरानी बातों से कुछ नई सीख लें सकारात्मक सोच के साथ नव वर्ष का सवागत करें. आपको व आपके परिवार को नव वर्ष कि मंगल कामनाएं

    ReplyDelete